संजय राउत का पलटवार, कहा- कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री को इतिहास की समझ होनी चाहिए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2021   16:28
संजय राउत का पलटवार, कहा- कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री को इतिहास की समझ होनी चाहिए

शिवसेना नेता संजय राउत ने बृहस्पतिवार को कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री लक्ष्मण सवादी के उस बयान की आलोचना की जिसमें उन्होंने कहा था कि मुंबई को उनके राज्य (कर्नाटक) का हिस्सा बना देना चाहिए।

मुंबई। शिवसेना नेता संजय राउत ने बृहस्पतिवार को कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री लक्ष्मण सवादी के उस बयान की आलोचना की जिसमें उन्होंने कहा था कि मुंबई को उनके राज्य (कर्नाटक) का हिस्सा बना देना चाहिए। राउत ने कहा कि सवादी को इतिहास की समझ होनी चाहिए और दावा किया कि महाराष्ट्र में रहने वाले कन्नड़ भाषी लोग चाहते हैं कि कर्नाटक के मराठी बहुल क्षेत्रों को महाराष्ट्र में शामिल किया जाए।

इसे भी पढ़ें: तरक्की के समावेशी तूफान को अराजकता के साजिशी उफान से नहीं रोका जा सकता: नकवी

सवादी ने बुधवार को कहा था कि जब तक मुंबई को कर्नाटक का हिस्सा नहीं बनाया जाता तब तक केंद्र सरकार को इसे एक संघ शासित प्रदेश घोषित कर देना चाहिए। राउत ने संवाददाताओं से कहा कि सवादी द्वारा दिए गए बयान को महत्व देने की जरूरत नहीं है। शिवसेना सांसद ने कहा, “लोग बातें करते हैं, इससे हमें फर्क नहीं पड़ता। सवादी को इतिहास की समझ होनी चाहिए। कर्नाटक से सीमा विवाद मराठी और संस्कृति की रक्षा करने के लिए है।”

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल में बनाई जा रही है भगवान बुद्ध की 100 फुट ऊंची प्रतिमा

राउत ने कहा, “सवादी को मुंबई और महाराष्ट्र आना चाहिए और कन्नड़ भाषी लोगों से पूछना चाहिए जो उन्हें बताएंगे कि उनके राज्य में बेलगाम और अन्य मराठी बहुल क्षेत्रों को महाराष्ट्र का हिस्सा होना चाहिए।” उन्होंने कहा कि राज्य में स्थित कन्नड़ स्कूलों, पुस्तकालयों और सांस्कृतिक संगठनों को महाराष्ट्र सरकार अनुदान देती है। उन्होंने पूछा, “क्या यह बेलगाम में होता है?” राउत ने कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे राज्य के विकास के एजेंडे को ही क्रियान्वित करेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।