• UP की बड़ी खबरें: परियोजनाओं का लोकार्पण करते हुए बोले डिप्टी CM केशव मौर्य, सड़कें और पुल होते हैं विकास का आधार

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने आज शौर्य व साहस की प्रतीक रानी लक्ष्मीबाई जी की धरती झांसी में विभिन्न विधानसभाओं के सर्वांगीण विकास हेतु विभाग की कुल 200 परियोजनाओं (लागत 93299.71 लाख रु0 लंबाई 593 किमी0) का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया।

सातवें अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 के अवसर पर जनसामान्य कोरोना महामारी के दृष्टिगत घर पर रहकर ही योग करें। योग से ही निरोग रहा जा सकता है। योग के लिए अधिक से अधिक से लोगों को जागरूक किया जाए। उत्तर प्रदेश सरकार के आयुष ,खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन मंत्री डा0 धर्म सिंह सैनी ने सातवें अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 के अवसर पर वर्तमान में देश में उत्पन्न कोरोना महामारी की विषम परिस्थितियों के दृष्टिगत जनसामान्य को उनके घर पर ही रहकर योग करने की अपील की है। उन्होने यह भी कहा कि योग से ही निरोग रहा जा सकता है। योग वह माध्यम है जिसके द्वारा हम शारीरिक रूप से ही नहीं बल्कि मानसिक रूप से भी पूर्णतः स्वस्थ रह सकते हैं । आयुष मंत्री ने कहा कि आयुष विभाग द्वारा विगत वर्ष की भांति इस वर्ष भी अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस में डिजीटल प्लेटफार्म के माध्यम से योगाभ्यास, योगकला एवं योग प्रश्नोत्तरी के माध्यम से जन-जन को जागरूक करने के लिए प्रतियोगिताओं का आनलाइन आयोजन किया जा रहा है, जिसमें अधिक से अधिक से लोग अपने-अपने घर पर अभ्यास कर एवं प्रतिभाग कर पुरस्कार प्राप्त कर सकते हैं। आयुष मंत्री ने कहा  कि कोविड की जटिलताओं के कारण ष्ठम ॅपजी ल्वहं ठम ।ज भ्वउमष् का संदेश अधिक से अधिक लोगों तक प्रसारित करते हुए जनपदों में संचालित किये जा रहे योग वेलनेस सेण्टर्स एवं हैल्थ वेलनेस सेण्टर्स के द्वारा वर्चुअल माध्यम से अधिक से अधिक लोगों को कॉमन योग प्रोटोकॉल के अनुसार योगाभ्यास कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि लोग कॉमन योग प्रोटोकॉल का पालन करते हुए घर पर ही रहकर 21 जून, 2021 को प्रातः 7ः00 बजे से 45 मिनट समय की कॉमन योग प्रोटोकॉल की ड्रिल करने के लिये एक दूसरे को अधिक से अधिक प्रेरित करें। डा0 धर्मसिंह सैनी ने बताया कि कि आयुष कवच ऐप तथा उ0प्र0 राज्य आयुष सोसाइटी के फेसबुक पेज पर अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून, 2021 को प्रातः 7ः00 बजे से कॉमन योग प्रोटोकॉल का सजीव प्रसारण होगा। इसके अतिरिक्त सप्तम अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर ‘‘समग्र स्वास्थ्य के लिए योग की महत्ता‘‘ विषय पर राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन आयुष विभाग, उ0प्र0 द्वारा किया जायेगा। उन्होनें सभी प्रदेशवासियों से कोविड प्रोटोकाल का पालन करने और वैक्सीनेशन अवश्य करवाने की भी अपील की है।

इसे भी पढ़ें: एके शर्मा बनाए गए यूपी भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष, ब्यूरोक्रेसी से राजनीति में आए थे

जून, जुलाई एवं अगस्त के महीने में होगा मुफ्त राशन का वितरण

जून माह में अंत्योदय कार्डधारकों को 03 किलो चीनी 18 रूपये प्रति किलोग्राम की दर से दी जायेगी। उत्तर प्रदेश सरकार राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत आच्छादित सभी अंत्योदय एवं पात्र गृहस्थी राशन कार्डधारकों को जून, जुलाई एवं अगस्त के महीने में मुफ्त राशन उपलब्ध कराएगी। इस योजना के तहत जून माह का वितरण कल से 30 जून तक होगा। इसके अलावा अंत्योदय कार्डधारकों को जून माह में 03 किलोग्राम चीनी का वितरण 18 रू प्रति किलोग्राम की दर से किया जाएगा। यह जानकारी प्रदेश के खाद्य आयुक्त, श्री मनीष चैहान ने आज यहाँ देते हुए बताया कि माह जून, 2021 में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम-2013 के अन्तर्गत आवंटित खाद्यान्न का दूसरे चक्र में 20 जून से 30 जून के मध्य वितरण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत वितरण की अन्तिम तिथि 30 जून, 2021 होगी, जिस दिन आधार प्रमाणीकरण के माध्यम से खाद्यान्न प्राप्त न कर सकने वाले उपभोक्ताओं हेतु मोबाइल ओ.टी.पी. वेरीफिकेशन के माध्यम से वितरण सम्पन्न किया जा सकेगा। खाद्य आयुक्त ने बताया कि इस अवधि में अन्त्योदय कार्डधारकों को 35 किग्रा0 खाद्यान्न (20 किग्रा0 गेहूं तथा 15 किग्रा0 चावल) तथा पात्र गृहस्थी राशन कार्डों से सम्बद्ध यूनिटों पर 05 किग्रा0 खाद्यान्न प्रति यूनिट (03 किग्रा0 गेहूं व 02 किग्रा0 चावल) का निःशुल्क वितरण लाभार्थियों में सुनिश्चित कराया जायेगा। चैहान ने बताया कि चीनी के वितरण में पोर्टेबिलिटी की सुविधा उपलब्ध नहीं होगी। अन्त्योदय राशन कार्डधारक अपनी मूल उचित दर दुकान से ही चीनी प्राप्त कर सकेंगे। उन्होंने बताया कि मुफ्त वितरण का सत्यापन होने के बाद उचित दर विक्रेता को उसको अनुमन्य धनराशि उसके खाते में जिलाधिकारी द्वारा जमा कराये जाने की कार्यवाही की जाएगी। खाद्य आयुक्त ने बताया कि कोविड-19 महामारी के दृष्टिगत ई-पॉस से वितरण के समय प्रत्येक उचित दर दुकान पर सेनिटाईजरध्साबुनध्पानी रखा जाएगा और हस्तप्रक्षालन के उपरान्त ही ई-पॉस मशीन का प्रयोग किया जाएगा। उन्होंने बताया कि उचित दर दुकानों पर टोकन सिस्टम लागू करते हुये सुनिश्चित किया जाएगा कि एक दुकान पर एक समय 05 से अधिक उपभोक्ता न रहें और सोशल डिस्टेन्सिंग बनाये रखने के लिए दो उपभोक्ताओं के मध्य कम से कम 02 गज की दूरी रखी जाए। उत्तर प्रदेश के जलशक्ति मंत्री डा0 महेन्द्र सिंह ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के अपेक्षाओं के अनुरूप लखनऊ के चिनहट स्थित महात्मा गांधी 50 शैय्या युक्त एम0सी0एच0 विंग चिकित्सालय को गोद लिया है।

यह जानकारी आज यहां देते हुए डा0 महेन्द्र सिंह ने बताया कि इस अस्पताल को बेहतर ढंग से सुसज्जित करके रोगियों के लिए और उपयोगी और सुविधाजनक बनाया जायेगा। उन्होंने इस अस्पताल को जनोपयोगी बनाने में सबके सहयोग की भी अपेक्षा की है। जलशक्ति मंत्री ने बताया कि पूरा देश कोविड-19 महामारी से जूझ रहा है। प्रधानमंत्री के कुशल मार्गदर्शन और मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में उ0प्र0 ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट के 3टी माॅडल को अपनाकर कोरोना के संक्रमण को रोकने में सफल रहा है। उत्तर प्रदेश सरकार जीवन के साथ जीविका बचाने में भी सफल रही है। डा0 महेन्द्र सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री जी के अथक प्रयासों के चलते उत्तर प्रदेश में कोरोना पर नियंत्रण में आया है। इस महामारी के खिलाफ स्वास्थ्य ढाॅचे को मजबूती प्रदान करने के लिए सभी मा0 सदस्यों को एक-एक पी0एच0सी0/सी0एच0सी0 गोद लेने की अपेक्षा की गयी। उन्होंने बताया कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर पर नियंत्रण पाने के लिए स्वास्थ्य सेवाओं को और बेहतर बनाना आवश्यक है। जलशक्ति मंत्री ने बताया कि शीघ्र ही जिलाधिकारी लखनऊ के साथ इस अस्पताल का निरीक्षण करके एक ठोस कार्ययोजना बनायी जायेगी और अस्पताल की बुनियादी सुविधाओं को और जनपयोगी बनाया जायेगा।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की आपत्तिजनक तस्वीर पोस्ट करने वाले युवक गिरफ़्तार

सचिव एवं निदेशक भूतत्व एवं खनिकर्म विभाग डॉ0 रोशन जैकब में समस्त जिलाधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि मानसून अवधि में वैध भंडारण स्थल से भण्डारित  बालू व मौरंग की आपूर्ति बाजार में निर्बाध रूप से सुनिश्चित करने के सभी प्रबंध किए जाएं तथा आम उपभोक्ताओं को  सस्ते और सुलभ रूप से बालूध्मोरम उपलब्ध होती रहे। डॉ रोशन जैकब ने बताया कि भारत सरकार के वन एवं पर्यावरण मंत्रालय द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार मानसून सत्र (1 जुलाई से 30 सितंबर तक) में नदी तट स्थित खनन क्षेत्रों से खनन का प्रतिबंधित रहता है। मानसून सत्र में खनिजों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के उद्देश्य से अधिकाधिक अनुज्ञप्ति स्वीकृत करने के निर्देश पूर्व में ही शासन स्तर से निर्गत किए जा चुके हैं। इस संबंध में डॉ रोशन जैकब ने सभी जिलाधिकारियों से अपेक्षा की है कि भण्डारण स्थल पर भण्डारण कर्ता का नाम, भण्डारित स्थल का पूर्ण विवरण, भंडारण स्थल पर उसकी उप खनिज की भण्डारित मात्रा तथा विक्रय मूल्य प्रदर्शित करते हुए साइन बोर्ड लगवाये जांए। भण्डारित मात्रा स्वीकृत क्षेत्र अंतर्गत रखे जाने के निमित्त स्वीकृत क्षेत्र का चिंन्हांकन कर चैहद्दी निर्धारित करते हुए सीमा स्तंभ लगाने तथा भण्डारण स्थल की जियो टैगिग कर उपदम डपजतं पोर्टल से जोड़ा जाए, जिससे अवैध भंडारण को सुगमता से  चिन्हित किया जा सके। भण्डारित स्थल पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएं तथा उनका नियमित अनुश्रवण किया जाए। डा०जैकब ने यह भी निर्देश दिए हैं कि भंडारण  स्थल से उप खनिजों  का परिवहन ई-प्रपत्र सी माध्यम से सुनिश्चित करते हुये विभागीय पोर्ट नचउपदमेण्नचेकबण्हवअण्पद पर फीड करायी जाए तथा साप्ताहिक अनुश्रवण कर यह देख लिया जाय भण्डारण अनुज्ञप्ति धारक द्वारा नियमित रूप से उपखनिज की निकासी की जा रही है अथवा नहीं।  उन्होंने जिलाधिकारियों को जारी दिशा-निर्देशों में कहा है कि भंडारण स्थल पर साइन बोर्ड लगवाने, स्वीकृत क्षेत्र का चिन्हांकश एवं जियो टैगिंग कराने ,सीसीटीवी कैमरा स्थापित कराने तथा ई-प्रपत्र-सी के माध्यम से परिवहन की गई मात्रा का नियमित अनुश्रवण कर प्रत्येक सप्ताह प्रगति की सूचना खनन निदेशालय को उपलब्ध कराया जाना सुनिश्चित किया जाए।

प्रदेश के 15 यशस्वी रचनाधर्मी एवं भाषसेवी विद्वतजनों को किया गया सम्मानित

उत्तर प्रदेश भाषा संस्थान द्वारा उत्तर प्रदेश एवं भाषा के क्षेत्र में साहित्यिक विनिमय, सौहार्द्र एयर समन्वय को संपुष्ट करने के लिए प्रदेश के 15 यशस्वी रचनाधर्मी एवं भाषसेवी विद्वतजनों को सम्मानित किया गया। विषम सामाजिक परिस्थितियों के चलते उक्त कार्यक्रम को वर्चुअली सम्पन्न किया गया। सभी आगंतुक विद्वतजनों ने सम्मान के प्रति आभार प्रकट किया और सभी तकनीकी विषयों के पाठ्यक्रम भी हिंदी में प्रकाशित होंने का एक सुर में पुरजोर समर्थन किया। संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. राजनारायण शुक्ल ने कहा, साहित्यकार राजनीतिक रूप से प्रेरित ना होकर अपनी कलम के प्रति वफादार रहें और आम जनता का मार्गदर्शन करते रहें। सम्मनित मंच के प्रति संस्थान निदेशक हरि बख्श सिंह ने आभार प्रकट किया। उत्तर प्रदेश भाषा सम्मान से डा0 मुरारी लाल अग्रवाल आगरा, डा0 उन्नत बहादुर सिंह रायबरेली, डा0 अमित भारती संतकबीरनगर, डा0 अमित मल्ल कानपुर, पंकज प्रसून वैज्ञानिक लखनऊ तथा शब्द शिल्पी सम्मान से डा0 वीणा शर्मा गाजियाबाद, डा0 मुकेश चन्द्र गुप्ता मुरादाबाद, डा0 सतीश चतुर्वेदी एटा, डा0 गीता पाण्डेय गाजियाबाद, डा0 सत्य प्रकाश पाल वाराणसी, सुश्री गीता टण्डन प्रयागराज, डा0 अलका पाण्डेय लखनऊ वि0वि0, डा0 गोविन्द स्वरूप गुप्त लखनऊ वि0वि0, डा0 बृजेश कुमार पाण्डेय प्रयागराज, डा0 एच0एल0 विश्वकर्मा रायबरेली को सम्मानित किया गया है।

इसे भी पढ़ें: UP में तेजी से चलाया जा रहा कोविड वैक्सीनेशन कैंपेन, अगले माह से किया जायेगा 10 लाख प्रतिदिन टीकाकरण

उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने आज झांसी में झांसी ललितपुर व जालौन की 200 परियोजनाओं का किया लोकार्पण/शिलान्यास

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने आज शौर्य व साहस की प्रतीक रानी लक्ष्मीबाई जी की धरती झांसी में पूर्व मंत्री रविंद्र शुक्ला, सांसद अनुराग शर्मा,  जिला अध्यक्ष जमुना प्रसाद कुशवाहा , सांसद भानु प्रताप सिंह वर्मा , हरगोविंद कुशवाहा, राम तीरथ सिंघल , मुकेश मिश्रा, विधायक गण तथा अन्य  जनप्रतिनियो के साथ ललितपुर, जालौन व झांसी की विभिन्न विधानसभाओं के सर्वांगीण विकास हेतु विभाग की कुल 200 परियोजनाओं (लागत 93299.71 लाख रु0 लंबाई 593 किमी0) का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इन परियोजनाओं से क्षेत्र का चहुमुखी विकास होगा। मुक्ता काशी मंच, झांसी में विभिन्न परियोजनाओं के लोकार्पण के बाद अपने संबोधन में कहा कि पिछले लगभग साढे चार वर्षों में पूरे प्रदेश की सड़कों की स्थिति में गुणात्मक सुधार आया है। पहले उत्तर प्रदेश में प्रवेश करने पर खराब सड़कों के दर्शन होते थे, लेकिन अब सड़कों की स्थिति बेहतर हो चुकी है। श्री मौर्य ने कहा सड़के विकास का आधार होती हैं। सड़कों और पुलों से न केवल आवागमन की सुविधा उपलब्ध होती है बल्कि विपणन सेवाओं को भी और अच्छा माहौल मिलता है। किसान व छोटे व्यापारी अपना माल बाजार में आसानी से ले जा सकते हैं और उन्हें अच्छे रेट मिलते हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता की आकांक्षाओं के अनुरूप उत्तर प्रदेश में सड़कों का जाल बिछाया गया है और इस दिशा में हम लगातार काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम ग्रामीण सड़कों पर विशेष रूप से जोर दे रहे हैं शहरी क्षेत्र में जाम की समस्या को देखते हुए  अधिक से अधिक बाईपास बनाए जाने के फैसले लिए गए हैं, फ्लाईओवर बनाए जा रहे हैं बड़ी संख्या मे रेल ऊपरिगामी सेतु बनाए जा रहे हैं और नदी सेतु के साथ-साथ पांटून पुलों का भी निर्माण किया जा रहा है। कई बड़े शहरों में रिंग रोड निर्माणाधीन है। 3 मीटर चैड़ी सड़कों को 5 मीटर किया जा रहा है। 250 तक की आबादी की लगभग ढाई हजार अनजुड़ी बसावट को इसी साल संपर्क मार्गों से जोड़ा जा रहा है। मौर्य ने झांसी स्थित सीपरी बाजार में विभाग द्वारा नवनिर्मित फ्लाई ओवर का उद्घाटन किया। इस पुल के निर्माण से यहां से गुजरने वाले आम जनों को जाम मुक्त यातायात की सुविधा मिलेगी और समय की भी बचत होगी। जनपद झांसी के सर्किट हाउस में आम जनों की समस्याओं व शिकायतों की जनसुनवाई की और सभी शिकायतों को निस्तारण हेतु संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया। विभिन्न गतिविधियो यथा निबन्ध, चित्रकला, पोस्टर, स्लोगन एवं क्विज प्रतियोगिताओं का आयेाजन करते हुए विद्यार्थियो एवं अभिभावकों को दिमागी बुखार एवं संचारी रोग के साथ कोरोना महामारी के संबंध में जागरूक किया जाएगा। सभी गतिविधियां शिक्षको एवं विद्यार्थियो के बने 290625 व्हाटसअप ग्रुप के माध्यम से संचालित की जाएगी। अभिभावको एवं विद्यार्थियेा को संचारी रोगो से बचाव एवं रोकथाम विशेषकर स्वच्छता, सुरक्षित पानी पीने, शौचालय का प्रयोग करने के साथ साथ खुले में शौच के नुकसान पर भी जागरूक किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा विभाग द्वारा आगामी 01 जुलाई से 31 जुलाई तक द्वितीय संचारी रोग अभियान संचालित किया जाएगा। इस अभियान के माध्यम से अभिभावकों, शिक्षकों एवं विद्यार्थियो को दिमागी बुखार एवं संचारी रोगों से बचाव तथा उपचार हेतु जागरूक किया जाएगा। यह जानकारी देते हुए प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डा0 दिनेश शर्मा ने बताया कि आज मा0 मुख्यमंत्री जी की अध्यक्षता मे संचारी रोग नियन्त्रण एवं दस्तक अभियान माह जुलाई 2021 के संबंध में संबंधित विभागों के साथ बैठक हुई। उन्होने बताया कि माध्यमिक शिक्षा विभाग द्वारा प्रतिदिन विभिन्न गतिविधियो यथा निबन्ध, चित्रकला, पोस्टर, स्लोगन एवं क्विज आदि प्रतियोगिताओं का आयेाजन करते हुए विद्यार्थियो एवं अभिभावकों को दिमागी बुखार एवं संचारी रोग के साथ कोरोना महामारी के संबंध में जागरूक किया जाएगा। उन्होने बताया कि यह सभी गतिविधियां शिक्षको एवं विद्यार्थियो के व्हाटसअप ग्रुप के माध्यम से संचालित की जाएगी। वर्तमान में विभाग में शिक्षको एवं विद्यार्थियो के 290625 व्हाटसअप ग्रुप बने हुए है।

इसे भी पढ़ें: इलाहाबाद हाई कोर्ट ने गंगा किनारे पड़े शवों के निपटान संबंधी याचिका खारिज की

उप मुख्यमंत्री ने बताया कि 01 जुलाई से प्रारम्भ हो रहे द्वितीय संचारी रोग नियन्त्रण अभियान में अभिभावको एवं विद्यार्थियेा को संचारी रोगो से बचाव एवं रोकथाम विशेषकर स्वच्छता, सुरक्षित पानी पीने, शौचालय का प्रयोग करने के साथ साथ खुले में शौच के नुकसान पर भी जागरूक किया जाएगा। इस अभियान के माध्यम से बुखार होने पर ’’क्या करें, क्या न करें’’ विषय पर जागरूक किया जाएगा तथा दिमागी बुखार के कारणो के बारे में जानकारी दी जाएगी। इस अभियान में स्वास्थ्य विभाग के कार्मिको के सहयोग से विद्यार्थियो को वैक्टरजनित रोगो से बचाव के संबंध में जानकारी उपलब्ध करायी जाएगी। अभियान के माध्यम से शिक्षको द्वारा विद्यार्थियो को क्लोरीनेशन डेमो, पेयजल कोे उबालना, साबुन से हाथ धोना, शौचालय को प्रयोग एवं स्वच्छता के विषय में जागरूक किया जाएगा। उप मुख्यमंत्री ने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण लाकडाउन की स्थिति में प्रथम संचारी रोग नियन्त्रण अभियान   01 मार्च से 31 मार्च 2021 तक के अन्तर्गत आनलाईन व्हाटसअप, वर्चुअल क्लास के द्वारा विद्यार्थियो एवं अभिभावको को जागरूक किया गया। उन्होने बताया कि इस दौरान 175739 प्रधानाचार्य/शिक्षको द्वारा 3084330 विद्यार्थियो एवं 933085 अभिभावको से व्हाटसअप वर्चुअल क्लासेज के माध्यम से  सम्पर्क स्थापित कर जागरूक किया गया। प्रथम संचारी रोग नियन्त्रण अभियान मे आयोजित आनलाइन पोस्टर/चित्रकला/स्लोगन प्रतियोगिताओं में 268507 विद्यार्थियो ने भाग लिया।