महाराष्ट्र के राज्यपाल से मिले IIMC के महानिदेशक, संस्थान में चल रहे नवाचारों की दी जानकारी

महाराष्ट्र के राज्यपाल से मिले IIMC के महानिदेशक, संस्थान में चल रहे नवाचारों की दी जानकारी

इस अवसर पर राज्यपाल ने कहा कि आईआईएमसी देश का सबसे प्रतिष्ठित मीडिया शिक्षण संस्थान है। यहां के पूर्व विद्यार्थी मीडिया क्षेत्र में महत्वपूर्ण पदों पर कार्यरत हैं। अमरावती केंद्र के माध्यम से संस्थान ने मराठी पत्रकारिता के विकास में अहम योगदान दिया है।

नई दिल्ली। भारतीय जन संचार संस्थान के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी ने शुक्रवार को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से शिष्टाचार भेंट की। इस दौरान उन्होंने राज्यपाल को संस्थान में चल रहे नवाचारों की जानकारी दी और आईआईएमसी की शोध पत्रिका 'संचार माध्यम' के 'भारत में मीडिया शिक्षा के 100 वर्ष' विषय पर केंद्रित विशेषांक की प्रति भेंट की। प्रो. द्विवेदी ने आईआईएमसी के अमरावती केंद्र के संबंध में भी कोश्यारी से चर्चा की। 

इसे भी पढ़ें: न्यू इंडिया के लिए जरूरी है डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन: प्रो. संजय द्विवेदी

इस अवसर पर राज्यपाल ने कहा कि आईआईएमसी देश का सबसे प्रतिष्ठित मीडिया शिक्षण संस्थान है। यहां के पूर्व विद्यार्थी मीडिया क्षेत्र में महत्वपूर्ण पदों पर कार्यरत हैं। अमरावती केंद्र के माध्यम से संस्थान ने मराठी पत्रकारिता के विकास में अहम योगदान दिया है। कोश्यारी ने मीडिया शिक्षा और अनुसंधान के क्षेत्र में किए गए महत्वपूर्ण प्रयासों के लिए भारतीय जन संचार संस्थान और प्रो. द्विवेदी की प्रशंसा भी की। 

इसे भी पढ़ें: यूनेस्को के निदेशक एरिक फॉल्ट ने कहा, न्यू मीडिया के हिसाब से हो मीडिया पाठ्यक्रमों का निर्माण

इस मुलाकात के दौरान राज्यपाल ने कहा कि प्रो. द्विवेदी यशस्वी पत्रकार और लेखक हैं। ऐसे बौद्धिक योद्धा निश्चय ही नई पीढ़ी के निर्माण में अपनी भूमिका निभा सकते हैं। प्रो. द्विवेदी को पत्रकारिता का लंबा अनुभव रहा है। वे जिस भी संस्थान में रहे, उसे अपनी कर्तव्यपरायणता और कर्मठता से प्रगति की राह पर आगे बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि आईआईएमसी ने पिछले एक वर्ष में जो नवाचार किए हैं, वे देश के अन्य मीडिया शिक्षण संस्थानों के लिए एक मिसाल हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।