DMK के मुखपत्र ने पुलिस को दिया सुझाव, क्या बीजेपी-RSS पेट्रोल बम हमले करवा रही है, की जाए जांच

DMK
Creative Common
अभिनय आकाश । Sep 26, 2022 6:53PM
तमिलनाडु की घटनाओं को लेकर डीएमके ने बीजेपी और आरएसएस को ही सवालों के कटघरे में खड़ा कर दिया है। डीएमके ने अपने मुखपत्र मुरासोली पर एक पूरे पेज के लेख में बीजेपी पर बड़े आरोप लगाए हैं।

देशभर में पीएफआई पर एनआईए के ताबड़तोड़ एक्शन के बाद से तमिलनाडु में बीजेपी नेताओं पर बीते कुछ दिनों में 11 हमले हो चुके हैं। इन सभी मामलों में पुलिस की स्पेशल टीमें जांच कर रही हैं और 350 से ज्यादा लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की भी खबर है। इनमें पीएफआई और एसडीपीआई के कार्यकर्ताओं के शामिल होने की बात सामने आ रही है। वहीं तमिलनाडु की घटनाओं को लेकर डीएमके ने बीजेपी और आरएसएस को ही सवालों के कटघरे में खड़ा कर दिया है। डीएमके ने अपने मुखपत्र मुरासोली पर एक पूरे पेज के लेख में बीजेपी पर बड़े आरोप लगाए हैं। मुरासोली ने दावा किया कि ऐसे उदाहरण केवल आरएसएस के असली रंग दिखाते हैं। जैसा कि पुलिस ने अपराधों से संबंधित कई गिरफ्तारियां की हैं। 

इसे भी पढ़ें: सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद बोले नीतीश, हम समान विचारधारा वाले लोग, लालू ने कहा- बीजेपी को हटाकर देश बचाना है

लेख में कहा गया कि अन्नामलाई का दावा है कि कानून और व्यवस्था खराब हो गई है, गृह मंत्री अमित शाह को एक पत्र लिखते हैं और कहते हैं कि वह एक विरोध रैली आयोजित करेंगे। ये घटनाक्रम जनता के बीच संदेह पैदा करने वाले हैं। बता दें कि तमिलनाडु बीजेपी के अध्यक्ष के अन्नामलाई ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को तमिलनाडु में बिगड़ती कानून व्यवस्था के बारे में पत्र लिखकर उनसे राज्य में बीजेपी और आरएसएस कार्यकर्ताओं के घरों और दफ्तरों पर पेट्रोल बम फेंकने की घटनाओं पर तत्काल कार्रवाई करने का अनुरोध किया था। 

इसे भी पढ़ें: गुजरात दौरे के दौरान बोले CM केजरीवाल, कांग्रेस को वोट दिया तो सोनिया का बेटे और बीजेपी को वोट दिया तो अमित शाह के बेटे की होगी तरक्की

डीएमके ने कहा कि इससे पता चलता है कि भाजपा और आरएसएस किसी भी स्तर तक गिर जाएंगे और पुलिस को उपरोक्त मामलों पर विचार करना चाहिए। असली दोषियों का पता लगाना चाहिए और उन्हें न्याय के कटघरे में खड़ा करना चाहिए। वहीं इस दावे का खंडन करते हुए भाजपा प्रवक्ता नारायणन तिरुपति ने कहा कि पीएफआई और एसडीपीआई भाजपा और आरएसएस के कार्यकर्ताओं को निशाना बना रहे हैं।

अन्य न्यूज़