मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा के पाठ पर बोले संजय राउत, राष्ट्रपति शासन लगाने की धमकी मत देना, हम बंटी-बबली के स्वागत के लिए तैयार

मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा के पाठ पर बोले संजय राउत, राष्ट्रपति शासन लगाने की धमकी मत देना, हम बंटी-बबली के स्वागत के लिए तैयार
ANI

संजय राउत ने कहा कि अगर आप हमारे घर तक पहुंचने की कोशिश करेंगे तो हमें जैसे को तैसा करने का अधिकार है। उसी अंदाज में जवाब देने का। इसके साथ ही राउत ने कहा कि धमकी मत देना राष्ट्रपति शासन लगाने की, कानून व्यवस्था खराब करने का काम आप लोग कर रहे हो।

मुंबई के निर्दलीय विधायक रवि राणा और उनकी पत्नी व सांसद नवनीत राणा व शिवसेना के बीच जंग लगातार तेज होती जा रही है। नवनीत राणा के हनुमान चालीसा पाठ पर संजय राउत का बयान सामने आया है। राउत ने कहा है कि महाराष्ट्र में माहौल बिगाड़ने की साजिश रची जा रही है। मीडिया से बात करते हुए संजय राउत ने कहा कि बाहर का कोई व्यक्ति आकर मातोश्री में घुसने की बात करेगा तो शिवसैनिक चुप बैठेंगे क्या? ऐसा कभी नहीं होगा।

इसे भी पढ़ें: शिवसेना की PM मोदी से अपील, कहा- लाउडस्पीकर पर बनाएं राष्ट्रीय नीति और गुजरात-दिल्ली में पहले करें लागू

संजय राउत ने कहा कि अगर आप हमारे घर तक पहुंचने की कोशिश करेंगे तो हमें जैसे को तैसा करने का अधिकार है। उसी अंदाज में जवाब देने का। इसके साथ ही राउत ने कहा कि धमकी मत देना राष्ट्रपति शासन लगाने की, कानून व्यवस्था खराब करने का काम आप लोग कर रहे हो। उन्होंने कहा कि मुंबई में बंटी- बबली आ चुके हैं। ऐसे लोगों से निपटने के लिए शिवसैनिक और मुंबई पुलिस सक्षम और मुस्तैद हैं।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा को लेकर हाई लेवल पॉलिटिक्स, सांसद नवनीत राणा के घर के बाहर शिवसैनिकों का प्रदर्शन

सांसद नवनीत राणा की बिल्डिंग के बाहर शिवसेना के कार्यकर्ताओं की भीड़ इकट्ठी हो गई है। उनका कहना है कि उन्हें परेशान किया जा रहा है। उन्होंने सवाल किया है कि शिवसैनिक बैरिकेड्स तोड़कर अंदर कैसे घुस गए। उन्होंने कहा कि उन्हें मातोश्री के बाहर जाने से कोई नहीं रोक सकता और वो अपनी बिल्डिंग के बाहर जाएंगी और मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ भी करूंगी। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे सिर्फ लोगों को जेल में डालना जानते हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...