कोरोना काल में लोगों के भ्रम को साफगोई से दूर करने वाले डॉ. रणदीप गुलेरिया हुए रिटायर, नए AIIMS के नए डायरेक्टर के बारे में ये बातें जानते हैं आप?

AIIMS
prabhasakshi
अभिनय आकाश । Sep 23, 2022 9:14PM
डॉ श्रीनिवास वर्तमान में ईएसआईसी, मेडिकल कॉलेज और अस्पताल, सनथनगर, हैदराबाद के डीन हैं। कैबिनेट की नियुक्ति समिति (एसीसी) ने निम्नलिखित प्रस्तावों को मंजूरी दी है। हैदराबाद में अपने कार्यकाल से पहले, डॉ श्रीनिवास एम्स दिल्ली में बाल चिकित्सा सर्जरी विभाग में प्रोफेसर थे।

डॉ एम श्रीनिवास एम्स के नए डायरेक्टर होंगे। वो रणदीप गुलेरिया की जगह लेंगे। कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) दिल्ली के अगले निदेशक के रूप में डॉ एम श्रीनिवास के नाम को मंजूरी दे दी है। डॉ श्रीनिवास वर्तमान में ईएसआईसी, मेडिकल कॉलेज और अस्पताल, सनथनगर, हैदराबाद के डीन हैं। कैबिनेट की नियुक्ति समिति (एसीसी) ने निम्नलिखित प्रस्तावों को मंजूरी दी है। हैदराबाद में अपने कार्यकाल से पहले, डॉ श्रीनिवास एम्स दिल्ली में बाल चिकित्सा सर्जरी विभाग में प्रोफेसर थे।

इसे भी पढ़ें: अभिनेत्री जैकलीन की स्टाइलिस्ट से दिल्ली पुलिस ने आठ घंटे तक पूछताछ की

सूत्रों के अनुसार प्रमुख संस्थान में शीर्ष पद के लिए दो डॉक्टरों के नामों की सिफारिश की गई थी और चित्रा तिरुनल इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी, त्रिवेंद्रम के निदेशक डॉ श्रीनिवास और डॉ संजय बिहारी के नाम एसीसी को अनुमोदन के लिए भेजे गए थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने किया। इस समिति के सदस्यों में दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति योगेश सिंह, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण, जैव प्रौद्योगिकी विभाग सचिव राजेश एस गोखले, सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के विजय राघवन शामिल हैं। 

इसे भी पढ़ें: Delhi-NCR Rain Update | बारिश के कारण दिल्ली-एनसीआर में लगा भारी जाम, नोएडा में स्कूल बंद, गुड़गांव में कर्मचारियों को मिला WFH

20 जून को प्रधान मंत्री की अध्यक्षता वाली समिति ने यहां एम्स के निदेशक पद के लिए नामों का एक व्यापक पैनल मांगा था। निवर्तमान निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया का कार्यकाल जो 24 मार्च तक था, को तीन महीने के लिए बढ़ा दिया गया था। बाद में इसे फिर से तीन महीने के लिए बढ़ा दिया गया। कोरोना काल का वो दौर तो सभी को याद होगा। उस वक्त एम्स के निदेशक के तौर पर गुलेरिया के सुझावों पर लोगों ने न केवल अमल किया बल्कि कई तरह से भ्रम को भी बड़ी आसानी से दूर करने का काम किया। 

अन्य न्यूज़