मेरठ कैंट के मतदान प्रतिशत पर निर्वाचन आयोग सख्त, मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने निर्वाचन अधिकारी से जवाब तलब

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2022   10:54
मेरठ कैंट के मतदान प्रतिशत पर निर्वाचन आयोग सख्त, मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने निर्वाचन अधिकारी से जवाब तलब

मेरठ छावनी क्षेत्र में 10 फरवरी को हुए मतदान के प्रतिशत पर सवाल उठ रहे हैं। कैंट विधानसभा क्षेत्र का मतदान प्रतिशत पहले 58 बताया गया बाद में 56.66। आयोग के निर्देश पर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने किया जवाब तलब।

मेरठ,जनपद के कैंट विधानसभा क्षेत्र में मतदान का समय समाप्त होने के बाद आयोग को मतदान प्रतिशत पहले 58 प्रतिशत बताया गया, जोकि रात में घटकर 56.66 रह गया। मतदान प्रतिशत के इस अंतर पर चुनाव आयोग ने सवाल उठाया है। आयोग के निर्देश पर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने जिला निर्वाचन अधिकारी से जवाब तलब किया है।

विधानसभा निर्वाचन 2022 के तहत मेरठ जनपद में प्रथम चरण में 10 फरवरी को मतदान हुआ था। मतदान शाम छह बजे तक चला। इसके तत्काल बाद सभी विधानसभा क्षेत्रों के निर्वाचन अधिकारियों को आयोग को अनुमानित मतदान प्रतिशत की जानकारी उपलब्ध करानी थी। अन्य विधानसभा क्षेत्रों से तो सबकुछ ठीक रहा, लेकिन कैंट विधानसभा क्षेत्र से मतदान प्रतिशत 58 प्रतिशत बताया गया, जो कुछ समय बाद ही बदलकर 56.66 प्रतिशत हो गया था। प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी के पत्र पर जिला निर्वाचन अधिकारी ने कैंट विधानसभा क्षेत्र की निर्वाचन अधिकारी एसीएम प्रथम संगीता से जवाब-तलब किया है। निर्वाचन अधिकारी ने अपना जवाब भी उपलब्ध करा दिया है।

कैंट विधानसभा क्षेत्र की निर्वाचन अधिकारी संगीता ने अपने जवाब में जिला निर्वाचन अधिकारी को बताया कि अनुमानित मतदान प्रतिशत के लिए सभी सेक्टर मजिस्ट्रेटों से फोन पर मौखिक रिपोर्ट प्राप्त की गई थी। उसके मुताबिक मतदान प्रतिशत 58 था। मतदान की प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद प्रत्येक बूथ के पीठासीन अधिकारी की रिपोर्ट के आधार पर मतदान प्रतिशत की सूचना तैयार की गई। जिसके मुताबिक अंतिम मतदान प्रतिशत 56.66 रहा। निर्वाचन अधिकारी की इस रिपोर्ट को आयोग को भेज दिया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।