मासिक धर्म होना कोई शर्म की बात नहीं, इस तथ्य के साथ लड़के और लड़कियों को किया जाए शिक्षित: स्मृति ईरानी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 28, 2020   13:22
मासिक धर्म होना कोई शर्म की बात नहीं, इस तथ्य के साथ लड़के और लड़कियों को किया जाए शिक्षित: स्मृति ईरानी

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि जन औषधी केन्द्रों के जरिए लाखों भारतीय महिलाओं को किफायती दामों में ‘सेनेटरी नैपकीन’ उपलब्ध कराए जा रहे हैं ताकि मासिक धर्म से जुड़ी स्वच्छता सुनिश्चित की जा सके।

नयी दिल्ली। महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने मासिक धर्म स्वच्छता दिवस पर लोगों से लड़कियों के साथ ही लड़कों को भी इस तथ्य को लेकर शिक्षित करने की अपील की कि रजस्वला (मासिक धर्म) होना कोई शर्म की बात नहीं है। उन्होंने कहा कि जन औषधी केन्द्रों के जरिए भारत की लाखों महिलाओं को ‘सेनेटरी नैपकीन’ किफायती दामों में उपलब्ध कराए जा रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: स्मृति ईरानी ने प्रवासी मजदूरों की मदद करने के लिए सोनू सूद की तारीफ की  

ईरानी ने ट्वीट किया, ‘‘जन औषधी केन्द्रों के जरिए लाखों भारतीय महिलाओं को किफायती दामों में ‘सेनेटरी नैपकीन’उपलब्ध कराए जा रहे हैं ताकि मासिक धर्म से जुड़ी स्वच्छता सुनिश्चित की जा सके। मासिक धर्म स्वच्छता दिवस 2020 पर ना केवल लड़कियों को बल्कि लड़कों को भी इस तथ्य को लेकर शिक्षित करने का संकल्प करें की रजस्वला कोई शर्म की बात नहीं है।’’ मासिक धर्म स्वच्छता दिवस हर वर्ष 28 मई को मासिक धर्म स्वच्छता प्रबंधन के महत्व को रेखांकित करने के लिए मनाया जाता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।