या तो ड्रग की तस्करी बंद करो, या हरियाणा छोड़ो दो --गृह मंत्री अनिल विज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2022   10:18
या तो ड्रग की तस्करी बंद करो, या हरियाणा छोड़ो दो --गृह मंत्री अनिल विज

हरियाणा को नशा मुक्त बनाया जाएगा और इसके लिए नारकोटिक्स विभाग के अलावा अन्य पूरे पुलिस विभाग को ड्रग्स के अलावा जुआ, शराब, तस्करी, अवैध हथियारों में शामिल लोगों पर नकेल कसने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि इन मामलों पर पुलिस अधीक्षकों द्वारा एक साप्ताहिक रिपोर्ट प्रस्तुत की जाती है।

चंडीगढ़ गृह मंत्री अनिल विज ने नशा तस्करों को चेतावनी देते हुए कहा कि या तो उन्हें नशा तस्करी बंद करनी होगी नहीं तो उन्हें हरियाणा छोड़ना होगा। उन्होंने कहा कि ब्यूरो द्वारा नशा पीडि़तों की सहायता और नशे के अवैध कारोबार में संलिप्त अपराधियों की सूचना देने के लिए टोल फ्री नंबर 90508-91508 जारी किया गया है, जो 24 घण्टे खुला रहता है। इस नम्बर पर कोई भी व्यक्ति नशे से संबंधित सूचना दे सकता है और समाज से बुराई के उन्मूलन में योगदान देकर अपनी सामाजिक जिम्मेदारी का निर्वहन कर सकता है। सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा।

 

उन्होंने कहा कि नशे के दुष्परिणामों के बारे में जागरूक करने और समाज से नशीले पदार्थों के खात्मे को सुनिश्चित करने के लिए शिक्षण संस्थानों और गांवों व शहरों में कई जागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं।  हरियाणा को नशा मुक्त बनाया जाएगा और इसके लिए नारकोटिक्स विभाग के अलावा अन्य पूरे पुलिस विभाग को ड्रग्स के अलावा जुआ, शराब, तस्करी, अवैध हथियारों में शामिल लोगों पर नकेल कसने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि इन मामलों पर पुलिस अधीक्षकों द्वारा एक साप्ताहिक रिपोर्ट प्रस्तुत की जाती है। 18,937 छापेमारी की गई और॒4879 मामले दर्ज किए गए

 

इसे भी पढ़ें: हरियाणा में 1.80 लाख रुपए से कम आय वाले परिवारों को भी मिलेगा आयुष्मान भारत योजना का लाभ

 

अनिल विज ने कहा कि अब तक 18,937 छापेमारी की गई है और 4879 मामले दर्ज किए गए हैं, 5379 आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं। इसके अलावा, 65,35,643 रुपये की राशि रिकवर की गई है। साथ ही, 172 अवैध पिस्तौल, 202 कारतूस और 76,154 शराब की बोतलें बरामद की गई हैं।  उन्होंने कहा कि केस डिस्पोजल के लिए एक योजना बनाई गई है जिसमें हर स्तर पर संबंधित अधिकारी की जवाबदेही तय की गई है। गृह मंत्री ने कहा कि किसी भी मामले में देरी के लिए इंस्पेक्टर रैंक के अधिकारी से लेकर पुलिस अधीक्षक तक के अधिकारी जिम्मेदार होंगे। इसके लिए एक पोर्टल विकसित किया गया है और अगले 15 दिनों में इसे परीक्षण के आधार पर चलाया जाएगा। इस पोर्टल में दर्ज किए गए प्रत्येक मामले का पूरा विवरण मेरे डैशबोर्ड पर उपलब्ध कराया जाएगा।

 

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन से भारतीय नागरिकों को देश वापस लाने के लिए हर संभव प्रयास करेगी हरियाणा सरकार

 

गृह मंत्री ने कहा कि नशीले पदार्थों की तस्करी में शामिल लोगों की संपत्ति कुर्क करने की प्रक्त्रिया करनाल, कुरुक्षेत्र और सिरसा में शुरू कर दी गई है. हमारे विचार अलग हो सकते हैं पर संकल्प एक ही है पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए खुशनुमा अंदाज़ में उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री और मेरी कुछ मुद्दों पर अलग-अलग राय हो सकती है, लेकिन राज्य के विकास के लिए हमारा संकल्प एक ही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...