छत्तीसगढ़ में सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, महिला समेत तीन माओवादी ढेर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2020   13:29
छत्तीसगढ़ में सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, महिला समेत तीन माओवादी ढेर

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित कांकेर जिले में सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में एक महिला माओवादी समेत तीन माओवादियों को मार गिराया है। वहीं इस घटना में सशस्त्र सीमा बल का जवान घायल हो गया है।

रायपुर। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित कांकेर जिले में सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में एक महिला माओवादी समेत तीन माओवादियों को मार गिराया है। वहीं इस घटना में सशस्त्र सीमा बल का जवान घायल हो गया है। बस्तर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक सुंदरराज पी ने सोमवार को को बताया कि कांकेर जिले के ताड़ोकी थाना क्षेत्र के अंतर्गत कोसरंडा गांव के करीब सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में एक महिला माओवादी समेत तीन माओवादियों को मार गिराया है। सुंदरराज ने बताया कि कोसरंडा गांव स्थित सशस्त्र सीमा बल :एसएसबी: के 33वीं बटालियन के शिविर से एसएसबी और जिला बल के संयुक्त दल को गश्त पर रवाना किया गया था।

इसे भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में कोरोना के 2284 नए मामले, अब तक 642 लोगों की मौत हुई

आज सुबह करीब आठ बजे दल जब क्षेत्र में था तब माओवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी। पुलिस अधिकारी ने बताया कि माओवादियों के हमले का सुरक्षा बलों ने भी जवाब दिया। कुछ देर तक मुठभेड़ के बाद माओवादी वहां से फरार हो गए। उन्होंने बताया कि बाद में जब सुरक्षा बलों ने घटनास्थल की तलाशी ली तब वहां से एक महिला माओवादी समेत तीन माओवादियों के शव तथा एसएलआर बंदूक समेत तीन हथियार बरामद किए गए।

इसे भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले से दो माओवादी गिरफ्तार

सुंदरराज ने बताया कि मुठभेड़ के दौरान एसएसबी का प्रधान आरक्षक अमन घायल हो गया है। उसे हल्की चोटें आई है। घायल जवान को अंतागढ़ के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ में मारे गए माओवादियों की पहचान नहीं हो पाई है। क्षेत्र में माओवादियों के खिलाफ अभियान जारी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।