कैप्टन की दोस्त अरुसा आलम पर उठे सवाल तो सामने आई सोनिया संग तस्वीर, जांच से पीछे हटी पंजाब सरकार

कैप्टन की दोस्त अरुसा आलम पर उठे सवाल तो सामने आई सोनिया संग तस्वीर, जांच से पीछे हटी पंजाब सरकार

पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी और अरुसा आलम की तस्वीर ट्विटर पर साझा की। जिसके बाद उपमुख्यमंत्री रंधावा ने जांच करवाने को लेकर किया गया अपना ट्वीट भी हटा लिया है।

चंडीगढ़। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की पाकिस्तानी मित्र अरुसा आलम को लेकर प्रदेश की सियासत गर्मा गई है। उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा अरुसा आलम के पाकिस्तानी आईएसआई (ISI) के कनेक्शन की जांच करवाने की बात कह रहे थे। लेकिन सोनिया गांधी के साथ अरुसा आलम की तस्वीर सामने आने के बाद वो पीछे हट गए। 

इसे भी पढ़ें: अरुसा आलम मामले में सामने आया कैप्टन अमरिंदर सिंह का बयान, सुखजिंदर को लगाई जमकर फटकार 

आपको बता दें कि अमरिंदर सिंह के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी और अरुसा आलम की तस्वीर ट्विटर पर साझा की। जिसके बाद उपमुख्यमंत्री रंधावा ने जांच करवाने को लेकर किया गया अपना ट्वीट भी हटा लिया है।

वहीं पूर्व डीजीपी मोहम्मद मुस्तफा ने भी अरुसा आलम के बहाने अमरिंदर सिंह पर निशाना साधने का प्रयास किया। जिस पर पूर्व मुख्यमंत्री की प्रतिक्रिया सामने आई है। मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने मोहम्मद मुस्तफा की पत्नी और बहू की अरूसा आलम के साथ खींची गई तस्वीर साझा की और अमरिंदर सिंह के हवाले से कहा कि क्या आपकी पत्नी और बहू इस महिला के साथ नहीं हैं। आप कितना घटिया सोचते हैं। राजनीति को दोस्ती के साथ मिलाना। व्यक्तिगत रूप से आपके परिवार की यादें भी अरूसा आलम के साथ जुड़ी हैं।

इसे भी पढ़ें: हरीश चौधरी बने पंजाब के नये कांग्रेस प्रभारी, अब उत्तराखंड चुनाव पर ध्यान केंद्रित करेंगे रावत 

कैप्टन दे चुके हैं सफाई

अमरिंदर सिंह ने उपमुख्यमंत्री को जवाब देते हुए कहा था कि सुखजिंदर आप मेरी कैबिनेट में मंत्री रहे थे। आपने कभी भी अरूसा आलम के बारे में कोई शिकायत नहीं की और वह 16 साल से भारत सरकार की मंजूरी के साथ यहां आ रही हैं। या आप आरोप लगा रहे हैं कि एनडीए और यूपीए सरकार की आईएसआई के साथ मिलीभगत रही।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।