भाजपा के ‘सांप्रदायिक चेहरे’ को उजागर करें: द्रमुक प्रमुख स्टालिन ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा

Stalin
द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) प्रमुख ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि वे राज्य सरकार पर वित्तीय बोझ के बावजूद पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार के सुशासन, उपलब्धियों और कल्याणकारी पहल को लोगों तक पहुंचाकर शहरी स्थानीय निकाय चुनावों के लिए उत्साह के साथ काम करें।

चेन्नई| तमिलनाडु के मुख्यमंत्री और द्रमुक अध्यक्ष एम. के. स्टालिन ने रविवार को अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को आगामी शहरी निकाय चुनावों में जीत के लिए उत्साह के साथ काम करने और 2011-21 के दौरान अन्नाद्रमुक के कार्यकाल में राज्य के लोगों द्वारा किये गये ‘संघर्ष’ की याद दिलाई।

स्टालिन ने पार्टी कार्यकर्ताओं से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की ‘विनाशकारी, सांप्रदायिक’ राजनीति का पर्दाफाश करने के लिए कहा और मुख्य विपक्षी दल ऑल इंडिया अन्‍ना द्रविड़ मुनेत्र कषगम (अन्नाद्रमुक) पर हमेशा ‘झूठ’ बोलने का आरोप लगाया।

स्टालिन ने एक खुले पत्र में पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि सामाजिक न्याय, स्वाभिमान, धार्मिक सद्भाव पर आधारित सुशासन और समावेशी विकास का द्रमुक का ‘द्रविड़ मॉडल’ शहरी निकाय चुनावों में पार्टी का हथियार है। राज्य में नगर निगमों, नगरपालिकाओं और नगर पंचायतों में 12,838 पदों के लिए शहरी निकाय चुनाव 19 फरवरी को एक ही चरण में होने हैं। मतगणना 22 फरवरी को होगी।

द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) प्रमुख ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि वे राज्य सरकार पर वित्तीय बोझ के बावजूद पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार के सुशासन, उपलब्धियों और कल्याणकारी पहल को लोगों तक पहुंचाकर शहरी स्थानीय निकाय चुनावों के लिए उत्साह के साथ काम करें।

स्टालिन ने भाजपा पर आरोप लगाया कि यह राष्ट्रीय पार्टी लोगों के बीच ‘धार्मिक कट्टरता के बीज बोने की कोशिश कर रही है और राजनीतिक लाभ हासिल करने के लिए सांप्रदायिक हिंसा को बढ़ावा दे रही है।’

उन्होंने द्रमुक कार्यकर्ताओं से कहा कि भाजपा की ऐसी ‘सांप्रदायिक, विनाशकारी’ राजनीति का पर्दाफाश करना चाहिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़