प्रदर्शन कर रहे किसानों को धमाकाया जा रहा है, हम उनके साथ खड़े हैं: राहुल गांधी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 29, 2021   12:59
प्रदर्शन कर रहे किसानों को धमाकाया जा रहा है, हम उनके साथ खड़े हैं: राहुल गांधी

कांग्रेस ने किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा को लेकर कई किसान नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज होने और गाजीपुर बॉर्डर पर गतिरोध की पृष्ठभूमि में बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि किसानों को तोड़ने और धमकाने की कोशिश की जा रही है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा को लेकर कई किसान नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज होने और गाजीपुर बॉर्डर पर गतिरोध की पृष्ठभूमि में बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि किसानों को तोड़ने और धमकाने की कोशिश की जा रही है। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने यह भी कहा कि अब एक पक्ष चुनने का समय है और वह किसानों एवं उनके शांतिपूर्ण आंदोलन के साथ खड़े हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ एक साइड चुनने का समय है। मेरा फ़ैसला साफ़ है। मैं लोकतंत्र के साथ हूं, मैं किसानों और उनके शांतिपूर्ण आंदोलन के साथ हूं।’’

इसे भी पढ़ें: अवैध खनन करने वालों पर सख्त कार्यवाही की जाए : नवनीत सिंह चहल

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने आरोप लगाया कि किसानों को धमकाया जा रहा है और जो लोग अन्नदाताओं को तोड़ना चाहते हैं वे देशद्रोही हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘कल आधी रात में लाठी से किसान आंदोलन को ख़त्म करने की कोशिश की गई। आज गाजीपुर, सिंघू बॉर्डर पर किसानों को धमकाया जा रहा है। यह लोकतंत्र के हर नियम के विपरीत है।’’ कांग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी ने कहा, ‘‘कांग्रेस किसानों के साथ इस संघर्ष में खड़ी रहेगी। किसान देश का हित हैं। जो उन्हें तोड़ना चाहते हैं- वे देशद्रोही हैं।’’ उन्होंने यह भी कहा, ‘‘ हिंसक तत्वों पर सख़्त कार्यवाही की जाए लेकिन जो किसान शांति से महीनो से संघर्ष कर रहे हैं, उनके साथ देश की जनता की पूरी शक्ति खड़ी है।’’

इसे भी पढ़ें: रालोद प्रमुख अजीत सिंह ने की टिकैत बंधुओं से बातचीत, बीकेयू का समर्थन किया

गणतंत्र दिवस पर किसानों के एक समूह द्वारा लाल किले पर धार्मिक ध्वज लगाने का उल्लेख करते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, ‘‘ ये जो घटना हुई, उसकी हम निंदा करते हैं।लेकिन इसमें सरकार की नाकामी है। क्या उसके पास कोई खुफिया जानकारी नहीं थी? उसने क्या कदम उठाए?’’ गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस ने गणतंत्र दिवस पर शहर में किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के संबंध में दर्ज प्राथमिकी में नामजद किसान नेताओं के विरुद्ध बृहस्पतिवार को ‘लुक आउट’ नोटिस जारी किया। इसके साथ ही अपनी जांच तेज करते हुए पुलिस ने लाल किले पर हुई हिंसा के संबंध में राजद्रोह का मामला भी दर्ज किया है। पुलिस ने किसान नेताओं को तीन दिनों का समय देते हुए यह बताने को कहा है कि क्यों नहीं उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए क्योंकि उन्होंने परेड के लिए तय शर्तों का पालन नहीं किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।