पुलवामा हमले पर फारूक अब्दुल्ला को शक, कहा- आम चुनाव देश को बचाने की लड़ाई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 31, 2019   10:44
पुलवामा हमले पर फारूक अब्दुल्ला को शक, कहा- आम चुनाव देश को बचाने की लड़ाई

उन्होंने कहा, ‘‘ यह चुनाव इस बात को लेकर है कि क्या भारत धर्मनिरपेक्ष भारत रहेगा या नहीं। यह फारूक अब्दुल्ला का सवाल नहीं है, बल्किदेश को बचाने का सवाल है। इसलिए याद रखिए यह (चुनाव) एक बड़ी लड़ाई है।’’

श्रीनगर। नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने शनिवार को यहां कहा कि यह आम चुनाव भारत को बचाने की लड़ाई है। जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री नेप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देश की जनता से झूठे वायदे करने के लिए आलोचना भी की।  अब्दुल्ला ने यहां कहा, ‘‘ यह चुनाव भारत को बचाने का है। यह सिर्फ जम्मू कश्मीर के लिए नहीं है। आपको धार्मिक स्वतंत्रता की रक्षा करनी होगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ यह चुनाव इस बात को लेकर है कि क्या भारत धर्मनिरपेक्ष भारत रहेगा या नहीं। यह फारूक अब्दुल्ला का सवाल नहीं है, बल्किदेश को बचाने का सवाल है। इसलिए याद रखिए यह (चुनाव) एक बड़ी लड़ाई है।’’

नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष श्रीनगर सीट से फिर से मैदान में हैं। वह पार्टी मुख्यालय पर कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। बालाकोट हवाई हमले का हवाला देते हुए अब्दुल्ला ने कहा कि संसद के आखिरी दिनों में कई सदस्यों ने कहा कि ‘मोदी सरकार सभी मोर्चों पर विफल रही है और उसके पास दिखाने को कुछ नहीं है।’’ इसलिए उन्होंने ‘‘ असल मुद्दों से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए युद्ध जैसी स्थिति बना दी।’’

इसे भी पढ़ें: बर्खास्त बीएसएफ जवान वाराणसी से मोदी के खिलाफ लड़ेगा चुनाव

अब्दुल्ला ने कहा, ‘‘ उन्होंने (मोदी ने) क्या किया? छत्तीसगढ़ में इतने भारतीय जवान शहीद हुए क्या मोदी वहां कभी उन्हें श्रद्धांजलि देने गए? क्या उन्होंने कभी उनके परिवारों के प्रति हमदर्दी जताई? क्या उन्होंने यहां मर रहे जवानों पर कभी कुछ बोला?’’ उन्होंने कहा, ‘‘ (पुलवामा में) सीआरपीएफ के 40 कर्मी शहीद हुए। मुझे उसे लेकर शक हैऔर इसलिए में आपको सच बता रहा हूं।’’ पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ उन्होंने यह कह कर पाकिस्तान पर हमला करने की कोशिश की कि हमने ने 300 (आतंकी) मारे हैं। कुछ ने कहा कि 500 मारे हैं। कुछ ने तो यह भी कहा कि 1000 मारे हैं। सिर्फ यह दिखाना था कि उनमें साहस है और वह कुछ भी कर सकते हैं।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।