एंटीगुआ से फरार भगोड़ा कारोबारी मेहुल चोकसी पकड़ा गया, भारत लाने की तैयारी में एजेंसियां

एंटीगुआ से फरार भगोड़ा कारोबारी मेहुल चोकसी पकड़ा गया, भारत लाने की तैयारी में एजेंसियां

डोमिनिका में हिरासत में लिए गए भगोड़े व्यवसायी मेहुल चोकसी को वापस लाने के लिए भारतीय एजेंसियां और अधिकारी विकल्प तलाश रहे हैं।

डोमिनिका में हिरासत में लिए गए भगोड़े व्यवसायी मेहुल चोकसी को वापस लाने के लिए भारतीय एजेंसियां और अधिकारी विकल्प तलाश रहे हैं। इंडिया टुडे के अनुसार इंटरपोल ने 23 मई को एंटीगुआ में अपने आवास से रहस्यमय ढंग से गायब होने के बाद जारी किए गए येलो नोटिस के आधार पर डोमिनिका में मेहुल चोकसी की हिरासत के बारे में भारतीय अधिकारियों को सूचित किया है। इंडिया टुडे के एक सरकारी सूत्र के अनुसार मेहुल चोकसी एंटीगुआ में नहीं है और वह डोमिनिका का नागरिक नहीं है, उसे इंटरपोल द्वारा उसके खिलाफ जारी रेड कॉर्नर नोटिस के आधार पर सीधे भारत भेजा जा सकता है। वह भारत के लिए एक वांछित आरोपी है और निर्वासन विकल्पों में से एक हो सकता है। कैरेबियाई द्वीप राष्ट्र एंटीगुआ और बारबुडा की नागरिकता रखने वाले मेहुल चोकसी ने एंटीगुआ से कथित रूप से भागने के लिए पानी का रास्ता अपनाया और डोमिनिका पहुंचने के बाद उसे अधिकारियों ने पकड़ लिया।

 बारबुडा के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउने कहा की मेहुल चोकसी भारत को सौंपा जाएगा 

एंटीगुआ एंड बारबुडा के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउने ने पड़ोसी देश डोमिनिका से भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी को सीधे भारत को सौंपने के लिए कहा है। स्थानीय मीडिया में आयी खबरों के अनुसार, हीरा कारोबारी चोकसी को डोमिनिका में पकड़ा गया है। मंगलवार रात (स्थानीय समयानुसार) को डोमिनिका में चोकसी की गिरफ्तारी की खबरों के बाद ब्राउने ने स्थानीय मीडिया से कहा कि उन्होंने डोमिनिका के प्राधिकारियों को चोकसी को भारत प्रत्यर्पित करने के ‘‘स्पष्ट निर्देश’’ दिए है। एक मीडिया संगठन ‘एंटीगुआ न्यूज रूम’ ने पत्रकारों के साथ ब्राउने की बातचीत के हवाले से कहा, ‘‘हमने कहा है कि वे उसे एंटीगुआ प्रत्यर्पित न करें। उसे भारत लौटाने की जरूरत है जहां वह अपने खिलाफ लगे आपराधिक आरोपों का सामना कर सके।’’ ब्राउने ने संकेत दिया कि चोकसी के पास डोमिनिका में वैसे अधिकार नहीं होंगे जैसे कि एंटीगुआ एंड बारबुडा में थे। 

इसे भी पढ़ें: फ्लोरिडा में दमकल विभाग का हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, चार लोगों की मौत 

 एंटीगुआ से फरार मेहुल चोकसी को पुलिस ने पकड़ा

एंटीगुआ और बारबुडा से हाल में फरार हुए भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी को पड़ोस के डोमिनिका में पकड़ लिया गया। उसके खिलाफ इंटरपोल ने ‘यलो नोटिस’ जारी किया था। स्थानीय मीडिया की खबरों में बुधवार को इस बारे में बताया गया। एंटीगुआ और बारबुडा द्वारा इंटरपोल का ‘यलो नोटिस’ जारी किये जाने के बाद डोमिनिका में पुलिस ने मंगलवार रात (स्थानीय समयानुसार) चोकसी को पकड़ लिया। खबरों में बताया गया है कि उसे एंटीगुआ और बारबुडा की रॉयल पुलिस फोर्स को सौंपने की कवायद चल रही है।

इसे भी पढ़ें: हमारी मौजूदा सरकार को अलग तरह से प्रस्तुत करने के राजनीतिक प्रयास चल रहे हैं :जयशंकर 

मेहुल चोकसी को लाया जाएगा भारत 

‘एंटीगुआ न्यूज रूम’ के मुताबिक, चोकसी एंटीगुआ और बारबुडा की नागरिकता लेने के बाद 2018 से वहां रह रहा है। लापता लोगों की तलाश के लिए इंटरपोल यलो नोटिस जारी करता है। पंजाब नेशनल बैंक से 13,500 करोड़ रुपये की कर्ज जालसाजी मामले में चोकसी वांछित है और उसे आखिरी बार रविवार को एंटीगुआ और बारबुडा में अपनी कार में भोजन करने के लिए जाते हुए देखा गया था। चोकसी की कार मिलने के बाद उसके कर्मचारियों ने लापता होने की सूचना दी। चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने पुष्टि की थी कि चोकसी रविवार से लापता था। एंटीगुआ और बारबुडा की संसद में विपक्ष द्वारा मामला उठाए जाने के बाद कैरेबियाई द्वीपीय देश में चोकसी के लापता होने को लेकर हंगामा मच गया।

विपक्ष के सवाल पर प्रधानमंत्री गेस्टन ब्राउन ने कहा था कि उनकी सरकार चोकसी का पता लगाने के लिए भारत सरकार, पड़ोसी देशों और अंतरराष्ट्रीय पुलिस संगठनों के साथ मिलकर काम कर रही है। चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी ने पंजाब नेशनल बैंक से कथित तौर पर 13,500 रुपये की जालसाजी की। नीरव मोदी लंदन में जेल में है और अपने प्रत्यर्पण के खिलाफ मुकदमा लड़ रहा है। चोकसी ने निवेश द्वारा नागरिकता प्राप्त करने के कार्यक्रम का इस्तेमाल करते हुए 2017 में एंटीगुआ और बारबुडा की नागरिकता ले ली थी और जनवरी 2018 के पहले सप्ताह में भारत से फरार होकर वहां चला गया था। बैंक से जालसाजी का मामला बाद में सामने आया था। चोकसी और नीरव दोनों सीबीआई जांच का सामना कर रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।