गहलोत ने कोयले की तत्काल पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने की केंद्र से की मांग

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 26, 2019   18:21
गहलोत ने कोयले की तत्काल पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने की केंद्र से की मांग

मुख्यमंत्री ने पत्र में आग्रह किया कि राज्य की विद्युत आवश्यकताओं के मद्देनजर 15 से 20 रैक कोयला तत्काल राजस्थान को मिले ताकि विद्युत संकट की स्थिति से बचा जा सके।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार से बृहस्पतिवार को मांग की कि राज्य की ऊर्जा जरूरतों के मद्देनजर कोयले की तत्काल पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। मुख्यमंत्री के अनुसार, कोयले की आपूर्ति में तत्काल सुधार नहीं होने की स्थिति में राज्य की कई विद्युत इकाइयों में उत्पादन प्रभावित होने से बिजली संकट पैदा हो सकता है।गहलोत ने इस बारे में केन्द्रीय कोयला तथा खान मंत्री प्रहलाद जोशी और केन्द्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री आरके सिंह को पत्र लिखा है।मुख्यमंत्री ने पत्र में कहा कि प्रदेश की जरूरत के अनुसार साउथ ईस्टर्न कोल फील्ड्स (एसईसीएल) से 129.24 लाख टन तथा नॉर्दर्न कोल फील्ड्स (एनसीएल) से 41.50 लाख टन कोयला राज्य को आवंटित किया गया है लेकिन कोल इंडिया लि. द्वारा जरूरत के मुकाबले काफी कम कोयले की आपूर्ति की जा रही है।

इसे भी पढ़ें: गहलोत सरकार ने 43 IPS, 23 IFS और 4 IAS अधिकारियों के किए तबादले

एसईसीएल से मात्र 47 प्रतिशत तथा एनसीएल से केवल 69 प्रतिशत ही आपूर्ति हो पा रही है।गहलोत ने कहा कि ट्रेड यूनियनों की हड़ताल के कारण कोयला आपूर्ति की स्थिति और भी गंभीर हो गई है। उन्होंने दोनों मंत्रियों का ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि इस कारण कोटा, सूरतगढ़ तथा छबड़ा थर्मल पावर स्टेशनों में कोयले का कम स्टॉक रह गया है।  मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान विद्युत उत्पादन निगम कोयला आपूर्ति में सुधार के लिए कोल इंडिया तथा रेलवे से संपर्क कर निरन्तर प्रयास कर रहा है लेकिन इसके बावजूद कोयले की पर्याप्त उपलब्धता नहीं हो पा रही है।

इसे भी पढ़ें: CM के रूप में फेल हो चुके गहलोत PM मोदी पर अनर्गल बयानबाजी कर रहे है: सतीश पूनिया

मुख्यमंत्री ने पत्र में आग्रह किया कि राज्य की विद्युत आवश्यकताओं के मद्देनजर 15 से 20 रैक कोयला तत्काल राजस्थान को मिले ताकि विद्युत संकट की स्थिति से बचा जा सके।गहलोत ने राज्य को कोयले की पर्याप्त आपूर्ति नहीं होने से बिजली उत्पादन की स्थिति को लेकर बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री कार्यालय में समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि केन्द्र सरकार से इस संबंध में बातचीत कर राज्य को प्राथमिकता से कोयले की आवश्यक आपूर्ति सुनिश्चित की जाए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।