PM के साथ बैठक में बोले गहलोत, राजस्थान में हर दिन हो रही हैं 30,000 से अधिक जांच

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 24, 2020   14:25
  • Like
PM के साथ बैठक में बोले गहलोत, राजस्थान में हर दिन हो रही हैं 30,000 से अधिक जांच

गहलोत ने संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए राज्य सरकार द्वारा उठाए गए पटाखों पर प्रतिबंध, मास्क पहनना अनिवार्य करने के लिए कानून, कई शहरों में रात्रिकालीन कर्फ्यूव जागरूकता के लिए जन आंदोलन जैसे कदमों की जानकारी भी इस वीडियो कान्फ्रेंस में दी।

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को कहा कि राज्य सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण महामारी के बीच चिकित्सा बुनियादी ढांचे को लगातार मजबूत किया है और इस समय राज्य में हर दिन कोरोना की 30,000 से अधिक जांच हो रही हैं। गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मुख्यमंत्रियों के साथ आनलाइन संवाद में यह बात कही। उन्होंने कहा कि राज्य में सितंबर अक्तूबर में हर दिन कोरोना की 18,000 जांच हो रही थी। इस क्षमता को अब बढाकर 30,000 से अधिक कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना की शत प्रतिशत जांच आरटी पीसीआर से हो रही हैं जो कि जांच की विश्वसनीय विधि है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने चिकित्सा स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने पर ध्यान दिया है जिसके तहत आक्सीजन संयंत्र लगाना, आक्सीजन पाइपलाइन बिछाना, आईसीयू व आक्सीजन सुविधा वाले बेड की संख्या बढ़ाना शामिल है। गहलोत ने संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए राज्य सरकार द्वारा उठाए गए पटाखों पर प्रतिबंध, मास्क पहनना अनिवार्य करने के लिए कानून, कई शहरों में रात्रिकालीन कर्फ्यूव जागरूकता के लिए जन आंदोलन जैसे कदमों की जानकारी भी इस वीडियो कान्फ्रेंस में दी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


लाल किला हिंसा मामले में अभिनेता दीप सिद्धू और लक्खा सिधाना के खिलाफ मामला दर्ज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2021   08:29
  • Like
लाल किला हिंसा मामले में अभिनेता दीप सिद्धू और लक्खा सिधाना के खिलाफ मामला दर्ज

अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली पुलिस ने भारतीय दंड संहिता, सार्वजनिक संपत्ति को क्षति से रोकथाम अधिनियम और अन्य कानूनों की प्रासंगिक धाराओं के तहत उत्तरी जिले के कोतवाली थाने में मामला दर्ज किया है।

नयी दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने लाल किले पर हुई हिंसा के सिलसिले में दर्ज प्राथमिकी में अभिनेता दीप सिद्धू और ‘गैंगस्टर’ से सामाजिक कार्यकर्ता बने लक्खा सिधाना के नाम लिए हैं। अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस ने भारतीय दंड संहिता, सार्वजनिक संपत्ति को क्षति से रोकथाम अधिनियम और अन्य कानूनों की प्रासंगिक धाराओं के तहत उत्तरी जिले के कोतवाली थाने में मामला दर्ज किया है। 

इसे भी पढ़ें: भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने अपना धरना वापस लिया, 57 दिनों बाद चिल्ला बॉर्डर फिर से खोला गया 

प्राथमिकी में प्राचीन स्मारकों और पुरातात्विक स्थलों और अवशेष अधिनियम तथा शस्त्र अधिनियम के प्रावधानों को भी जोड़ा गया है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) की ओर से जारी आदेश के मुताबिक लाल किला 27 जनवरी से 31 जनवरी तक आगंतुकों के लिए बंद रहेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने अपना धरना वापस लिया, 57 दिनों बाद चिल्ला बॉर्डर फिर से खोला गया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2021   08:21
  • Like
भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने अपना धरना वापस लिया, 57 दिनों बाद चिल्ला बॉर्डर फिर से खोला गया

नोएडा यातायात पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि बीकेयू (भानु) के विरोध वापस लेने के साथ ही चिल्ला बॉर्डर के माध्यम से दिल्ली-नोएडा मार्ग 57 दिनों के बाद यातायात के लिए फिर से खुल गया।

नोएडा। नये कृषि कानूनों को लेकर करीब दो माह से चिल्ला बॉर्डर पर धरना दे रहे भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने बुधवार से अपना धरना वापस ले लिया। दिल्ली में मंगलवार को ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसक घटना तथा राष्ट्र ध्वज के अपमान से आहत होकर भानु गुट ने धरना वापस लिया है। वहीं लोक शक्ति दल ने अपना विरोध-प्रदर्शन जारी रखने की बात कही है। नोएडा यातायात पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि बीकेयू (भानु) के विरोध वापस लेने के साथ ही चिल्ला बॉर्डर के माध्यम से दिल्ली-नोएडा मार्ग 57 दिनों के बाद यातायात के लिए फिर से खुल गया। मालूम हो कि भारतीय किसान यूनियन (भानू) नये कृषि कानूनों के विरोध में चिल्ला बॉर्डर पर धरना दे रहा था। इस धरने की वजह से नोएडा से दिल्ली जाने वाला रास्ता करीब 57 दिनों से बंद था। 

इसे भी पढ़ें: ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा से कमजोर पड़ा किसान आंदोलन, 1 फरवरी को होने वाला संसद मार्च स्थगित 

भारतीय किसान यूनियन (भानू)के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानु प्रताप सिंह ने चिल्ला बॉर्डर पर एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि कल ट्रैक्टर परेड के दौरान जिस तरह से दिल्ली में पुलिस के जवानों के ऊपर हिंसक हमला हुआ तथा कानून व्यवस्था की जमकर धज्जियां उड़ाई गई, इससे वे काफी आहत हैं। उन्होंने कहा कि जिस तरह से लालकिले पर एक धर्म विशेष का झंडा फहराया गया, उससे भी वह दुखी हैं। ठाकुर भानु प्रताप सिंह ने कहा कि भारत का झंडा तिरंगा है तथा वह तिरंगे का सम्मान करते हैं। उन्होंने कहा कि कल के घटनाक्रम से वह काफी आहत हैं। उन्होंने कहा कि 58 दिनों से जारी चिल्ला बॉर्डर का धरना वह खत्म कर रहे हैं। इस बाबत पूछने पर अपर पुलिस उपायुक्त रणविजय सिंह ने बताया कि किसानों ने स्वतः धरना खत्म करने का निर्णय लिया है।

उन्होंने कहा कि थोड़ी देर में ही किसान धरना स्थल को छोड़ देंगे तथा यहां पर लगे टेंट आदि को हटाकर यातायात को पुनः सुचारु रुप से चालू कर दिया जाएगा। भारतीय किसान यूनियन (लोकशक्ति) के राष्ट्रीय अध्यक्ष मास्टर श्यौराज सिंह ने कहा कि वह ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा की कड़ी निंदा करते हैं। उन्होंने कहा कि हिंसा करने एवं अराजकता फैलाने वाले किसान बिल्कुल नहीं हो सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘संसद और लालकिला पूरे देश की शान है। लाल किले की प्राचीर पर तिरंगे का अपमान किया गया है वह नाकाबिले बर्दाश्त है।’’ 

इसे भी पढ़ें: गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में हिंसा देश का अपमान, मेरा सिर शर्म से झुक गया: अमरिंदर 

उन्होंने कहा कि लालकिले की प्राचीर पर एक समुदाय विशेष का झंडा फहराये जाने के मामले की जांच होनी चाहिए और आरोपियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जानी चाहिए जिससे भविष्य में इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति ना हो सके। मास्टर श्यौराज सिंह ने कहा कि कुछ असामाजिक तत्वों ने पूरे किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश रची है। बीकेयू (लोकशक्ति) के प्रवक्ता ने कहा कि ‘जो भी दिल्ली में हुआ वह नहीं होना चाहिए था। हम उसकी निंदा करते हैं और हम किसी भी हिंसा के खिलाफ हैं। हमने घटनाओं के संबंध में भारतीय किसान यूनियन (लोकशक्ति) अध्यक्ष मास्टर श्यौराज सिंह की अध्यक्षता में आज एक बैठक की और निर्णय किया कि हम अपना प्रदर्शन जारी रखेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


शादी का झांसा देकर दो साल से कर रहा था दुष्‍कर्म, आरोपी गिरफ्तार

  •  दिनेश शुक्ल
  •  जनवरी 28, 2021   08:19
  • Like
शादी का झांसा देकर दो साल से कर रहा था दुष्‍कर्म, आरोपी गिरफ्तार

बुधवार को सीएसपी बरगी रवि चौहान ने बताया कि 20 वर्षीय पीड़िता युवती स्नातक तक पढ़ाई कर चुकी है। जिसका ग्राम बहोरीपार निवासी राहुल नाट से प्रेम संबंध चल रहा था, राहुल ने कम्प्यूटर की पढ़ाई कर अपने घर में किराना दुकान खोल रखी है।

जबलपुर। मध्य प्रदेश में जबलपुर के बरगी थानांतर्गत ग्राम बहोरीपार में एक युवती को दुष्‍कर्म का मुकदमा दर्ज कराने के लिए डायल-100 पर आत्महत्या की धमकी देना पड़ा। जिसके बाद पुलिस सक्रिय हुई और युवती के बयान के आधार पर आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया। बुधवार को सीएसपी बरगी रवि चौहान ने बताया कि 20 वर्षीय पीड़िता युवती स्नातक तक पढ़ाई कर चुकी है। जिसका ग्राम बहोरीपार निवासी राहुल नाट से प्रेम संबंध चल रहा था, राहुल ने कम्प्यूटर की पढ़ाई कर अपने घर में किराना दुकान खोल रखी है।

 

इसे भी पढ़ें: श्रीराम मंदिर के नाम पर भाजपा देशवासियों को डराकर कर रही है चंदा- दिग्विजय सिंह

युवती के मुताबिक आरोपित उससे शादी का झांसा देकर दो वर्षों से लगातार शारीरिक शोषण कर रहा था। दोनों के परिवार वाले उनकी शादी को तैयार हो गए थे, परन्तु अचानक राहुल ने शादी करने से मना कर दिया। जिसके बाद युवती ने जहर खाने की धमकी दी और इसके बारे में खुद ही डायल-100 पर पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने आनन-फानन में मौके पर महिला एसआई को भेजा और वहां युवती के बयान के आधार पर पुलिस ने धारा-370 भादवि के तहत दुष्‍कर्म का मामला दर्ज करते हुए आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है ।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept