गोवा कांग्रेस ने टीएमसी और प्रशांत किशोर के आईपीएसी पर साधा निशाना

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2021   17:28
गोवा कांग्रेस ने टीएमसी और प्रशांत किशोर के आईपीएसी पर साधा निशाना

कांग्रेस की गोवा इकाई ने इस तटीय राज्य में भाजपा पर ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की चुप्पी पर सोमवार को सवाल उठाया और आरोप लगाया कि टीएमसी का एजेंडा राज्य में सत्तारूढ़ दल की मदद करना हो सकता है।

पणजी। कांग्रेस की गोवा इकाई ने इस तटीय राज्य में भाजपा पर ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की चुप्पी पर सोमवार को सवाल उठाया और आरोप लगाया कि टीएमसी का एजेंडा राज्य में सत्तारूढ़ दल की मदद करना हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: कमल हासन को चेन्नई के अस्पताल में कराया गया भर्ती, कोरोना की रिपोर्ट आयी पॉजिटिव

गोवा में विधानसभा चुनाव अगले साल फरवरी में होने की संभावना है और इस चुनाव में तृणमूल कांग्रेस के साथ ही आम आदमी पार्टी (आप) भी चुनाव लड़ने की योजना बना रही है। इससे भाजपा के खिलाफ कांग्रेस की योजना में मुश्किल आ सकती है। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के गोवा डेस्क प्रभारी दिनेश गुंडू राव ने यह भी आरोप लगाया कि हो सकता है कि आईपीएसी गोवा में बनर्जी को ‘‘धोखा’’ दे रही हो।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री गहलोत ने खुद के पास रखा गृह, वित्त, IT और संचार विभाग, देखिए किसे मिला कौन-सा मंत्रालय

आईपीएसी एक चुनाव सलाहकार कंपनी है, जिससे चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर जुड़े हुए हैं। राव ने दक्षिण गोवा के क्यूपेम में पत्रकारों से बात करते हुए सवाल किया, ‘‘टीएमसी का एजेंडा भाजपा की मदद करना है। वे अन्य सभी पार्टियों को कमजोर करना चाहते हैं और कांग्रेस को निशाना बना रहे हैं। वे भाजपा को निशाना क्यों नहीं बना सकते? उन्हें संसाधन कौन मुहैया करा रहा है, पैसा कहां से आ रहा है।’’ राव ने दावा किया, ‘‘आईपीएसी चलाने वाले लोगों का अलग एजेंडा हो सकता है। वे बनर्जी को धोखा भी दे सकते हैं। मुझे नहीं पता कि बनर्जी यह सब जानती हैं या नहीं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।