गुस्सा आया, जूते मारकर मिली शांति, ESI अस्पताल में महिला ने पार्थ चटर्जी पर किया हमला

Partha Chatterje
Creative Common
अभिनय आकाश । Aug 02, 2022 2:14PM
एसएससी भ्रष्टाचार मामले में ईडी के आदेश पर पार्थ चटर्जी, अर्पिता मुखर्जी का हर 48 घंटे में स्वास्थ्य परीक्षण हो रहा है। मंगलवार का दिन था। दोनों को जोकर ईएसआई अस्पताल ले जाया गया। वहाँ से बाहर निकलते ही पार्थ चटर्जी पर एक महिला ने जूता फेंका।

शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में ईडी द्वारा गिरफ्तार बंगाल सरकार के पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी पर हमला हुआ है। पार्थ जब स्वास्थ्य जांच के लिए ईएसआई अस्पताल से बाहर जा रहे थे तो एक महिला ने उन पर हमला करने की खबर है। हालांकि खबर है कि इसका पार्थ चटर्जी पर कोई असर नहीं हुआ। इतने हाई प्रोफाइल मामले में अचानक हुई इस तरह की घटना को लेकर अस्पताल परिसर में कोहराम मच गया है। सुरक्षा गार्डों ने आनन-फानन में पूर्व मंत्री को वहां से हटाकर कार में बिठा लिया। महिला का साफ बयान, ''गुस्सा था, जूते मारकर मुझे शांति मिली। 

इसे भी पढ़ें: पार्थ और अर्पिता दे रहे एक जैसा जवाब, कैश क्वीन बोलीं- पैसा मेरा नहीं, मेरी गैरमौजूदगी में रखा गया

एसएससी भ्रष्टाचार मामले में ईडी के आदेश पर पार्थ चटर्जी, अर्पिता मुखर्जी का हर 48 घंटे में स्वास्थ्य परीक्षण हो रहा है। मंगलवार का दिन था। दोनों को जोकर ईएसआई अस्पताल ले जाया गया। वहाँ से बाहर निकलते ही पार्थ चटर्जी पर एक महिला ने जूता फेंका। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार महिला का नाम शुभ्रा घोरुई है। आमटा की रहने वाली शुभ्रादेवी आम नागरिक हैं। मीडिया के सामने शुभ्रादेवी ज्यादा कुछ नहीं कहना चाहती थीं। उनका बयान, "मैं उनसे नाराज था, मुझे जूते मारकर शांति मिली। जूते उसे फिट हो जाते तो अच्छा होता। 

इसे भी पढ़ें: पार्थ चटर्जी पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहे : ईडी

महिला ने कहा कि क्या आप माला पहनाकर स्वागत करना चाहेंगे?" सुभ्रादेवी ने यह भी कहा, "उन्होंने इतने लोगों के पैसे को मारकर और उनकी नौकरियों को मारकर फ्लैट और घर खरीदे। उसे फिर से एसी कार में ले जाया जा रहा है! दरअसल, ईएसआई अस्पताल में लगातार 2 दिन इन दोनों के स्वास्थ्य जांच के लिए जनता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।  जो लोग बाहर हैं, उन्हें सुरक्षा के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। इसको लेकर गुस्सा भी बढ़ रहा है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़