सरकार यूक्रेन में पैदा हालतों से चिंतित है --जय राम ठाकुर

सरकार यूक्रेन में पैदा हालतों से चिंतित है --जय राम ठाकुर

मुकेश अग्निहोत्री ने सदन में यूक्रेन युद्ध के बीच फंसे छात्रों का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा जानकारी के मुताबिक छात्रों और भारतीयों की संख्या बताई जा रही संख्या से कहीं ज्यादा हो सकती है। नेता प्रतिपक्ष ने कहा क्या इन हालातों में जब एयर स्पेस बंद है, कोई वैकल्पिक व्यवस्था पर सरकार विचार कर रही है।

शिमला। शिमला में चल रहे हिमाचल प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र के दौरान आज सदन में आज यूक्रेन में पैदा हालतों  की गूंज भी सुनाई दी। प्रदेश के इस समय करीब 130 मेडिकल छात्र वहां  चल रहे युद्ध के बहच फंसे हैं। जिससे प्रदेश में चिंता को महौल है। नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने सदन में यूक्रेन युद्ध के बीच फंसे छात्रों का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा जानकारी के मुताबिक छात्रों और भारतीयों की संख्या बताई जा रही संख्या से कहीं ज्यादा हो सकती है। नेता प्रतिपक्ष ने कहा क्या इन हालातों में जब एयर स्पेस बंद है, कोई वैकल्पिक व्यवस्था पर सरकार विचार कर रही है। क्या छात्रों के वापिस लाने के लिए सरकार निः शुल्क व्यवस्था करेगी। 

 

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सदन में यूक्रेन के हालातों पर जानकारी देते हुए कहा कि सरकार यूक्रेन में पैदा हालतों से चिंतित है क्योंकि हमारे नागरिक इन मुश्किल हालातों में फंसे हुए है। प्रधानमंत्री की रूस के राष्ट्रपति से देश के नागरिकों की सुरक्षा और उनकी सुरक्षित रिहाई को लेकर विस्तार से चर्चा हुई है और उमीद है कि जल्द कोई सकारात्मक परिणाम सामने होंगे। हिमाचल सरकार ने फंसे हुए लोगों की जानकारी के लिये मुख्यमंत्री हेल्प लाइन नंबर 1100 पर जानकारी देने को कहा है। जहां सुबह तक 60 लोगों में रिजिस्टर किया है। फंसे हुये लोगों को लेकर लागातार जानकारी मिल रही है इससे हमें पता लगाने में मदद मिलेगी की कितने लोग फंसे हो सकते है।

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन में चल रहे युद्ध के चलते हिमाचल प्रदेश के भी छात्र फंसे , परिजन परेशान

सरकार भारत सरकार से मसले को उठा रही है और लगातार भारत सरकार के सम्पर्क में है और सरकार इस विषय पर बेहद गभीर है। सरकार जिस भी रूप में मदद कर सकेगी उसके लिए हमेशा तैयार है। मुख्यमंत्री ने सदन में आग्रह किया कि जिन भी सदस्यों के पास यूक्रेन मामले को लेकर कोई भी जानकारी होगी उसे सांझा करें। अभी तक की जानकारी के अनुसार ऊना के 26, मंडी के 23, हमीरपुर के 20, बिलासपुर के 18, सोलन के 16, कुल्लू के 8, चंबा के 7, कांगड़ा-सिरमौर के 3-3 और एक व्यक्ति शिमला का यूक्रेन में फंसा है।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश की सांफिआ फाउंडेशन ऑस्ट्रीआ में सम्मानित

इस बीच प्रदेश सरकार ने केन्द्रीय विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर से रूस और यूक्रेन के मध्य संघर्ष के कारण यूक्रेन में फंसे प्रदेश के लोगों को सुरक्षित वापिस लाने के लिए आवश्यक उपाय करने का आग्रह किया। इस सम्बन्ध में केन्द्रीय विदेश मंत्री को लिखे पत्र में मुख्यमंत्री ने विदेश मंत्रालय के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि प्रारम्भिक सूचना के अनुसार यूक्रेन में हिमाचल प्रदेश के 130 से ज्यादा लोग फंसे हुए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार यूक्रेन में फंसे राज्य के लोगों की सुरक्षा के लिए चिन्तित है। उन्होंने कहा कि इस सम्बन्ध में प्रदेश के मुख्य सचिव पहले से ही विदेश सचिव के सम्पर्क में हैं।

इसे भी पढ़ें: युवा शक्ति में ज्यादा जोश होता है, ज्यादा उमंग होती है जिससे एक देश को बल मिलता है : कश्यप

जय राम ठाकुर ने मंत्रालय द्वारा यूक्रेन में फंसे भारतीयों की सहायता के लिए यूक्रेन के साथ-साथ नई दिल्ली में हेल्पलाइन स्थापित करने के लिए किए गए प्रयासों की भी सराहना की।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।