केंद्रीय मंत्रालयों में हिंदी के अधिक से अधिक उपयोग का निर्देश दे सरकार: शिवसेना सांसद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 25, 2022   20:24
केंद्रीय मंत्रालयों में हिंदी के अधिक से अधिक उपयोग का निर्देश दे सरकार: शिवसेना सांसद

शिवसेना सांसद श्रीरंग अप्पा बरणे ने शुक्रवार को केंद्र सरकार से आग्रह किया कि केंद्रीय मंत्रालयों में हिंदी के ज्यादा से ज्यादा उपयोग के लिए निर्देश जारी किया जाए। उन्होंने लोकसभा में शून्यकाल के दौरान यह मांग उठाई।

नयी दिल्ली। शिवसेना सांसद श्रीरंग अप्पा बरणे ने शुक्रवार को केंद्र सरकार से आग्रह किया कि केंद्रीय मंत्रालयों में हिंदी के ज्यादा से ज्यादा उपयोग के लिए निर्देश जारी किया जाए। उन्होंने लोकसभा में शून्यकाल के दौरान यह मांग उठाई। बरणे ने कहा कि आज केंद्र सरकार के अधिकतर अधिकारी अंग्रेजी में काम करते हैं, जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह हिंदी में अपनी बात रखते हैं।

इसे भी पढ़ें: विधानसभा में बोले उद्धव, हमारे परिवार को परेशान न करें, सत्ता के लिए मुझे जेल में डालना चाहते हो तो डाल दो

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को मंत्रालयों को निर्देश देना चाहिए कि ज्यादा से ज्यादा हिंदी का उपयोग किया जाए। कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि कोविड महामारी से पहले हजारों भारतीय बच्चे चीन में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे थे जो कोविड के कारण आज घर बैठे हुए हैं। उन्होंने कहा कि ऐप पर पढ़ाई होती थी, लेकिन चीन के साथ जो हालात बने उनमें कई ऐप को प्रतिबंधित कर दिया गया और आज बच्चों की पढ़ाई नहीं हो पा रही है।

इसे भी पढ़ें: सभी सांसद अपनी निधि से 5 करोड़ रुपये कश्मीरी पंडितों के पुनर्वास के लिए दें : संजय सिंह

उन्होंने कहा, ‘‘मेरा आग्रह है कि चीन पढ़ाई करने गए बच्चों की यहां पर पढ़ाई का प्रबंध करना चाहिए।’’ कांग्रेस के मणिकम टैगोर ने कहा कि श्रीलंका में आर्थिक संकट को देखते हुए भारत सरकार को तमिल लोगों की मदद करनी चाहिए। भाजपा सांसद भगीरथ चौधरी ने सरकार से अजमेर स्थित तीर्थस्थल पुष्कर का विकास कराने का आग्रह किया। कई अन्य सदस्यों ने भी शून्यकाल के दौरान लोक महत्व के अलग-अलग विषय उठाए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...