पूर्वांचल में बाढ़ से बचाव के लिए सरकार को अभी से कदम उठाने चाहिए : मायावती

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 25, 2021   10:50
पूर्वांचल में बाढ़ से बचाव के लिए सरकार को अभी से कदम उठाने चाहिए : मायावती

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने महाराष्ट्र और गोवा में बाढ़ के कहर से जान-माल की भारी क्षति पर रविवार को दुख प्रकट करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल में बाढ़ से बचाव के लिए प्रदेश की सरकार को अभी से सजग होकर कदम उठाने चाहिए।

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने महाराष्ट्र और गोवा में बाढ़ के कहर से जान-माल की भारी क्षति पर रविवार को दुख प्रकट करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल में बाढ़ से बचाव के लिए प्रदेश की सरकार को अभी से सजग होकर कदम उठाने चाहिए। बसपा प्रमुख ने रविवार को अपने ट्वीट में कहा, देश के विभिन्न भागों खासकर महाराष्ट्र और गोवा में बाढ़ की विभीषिका से जान-माल एवं संपत्ति की भारी हानि अत्यंत दुखद है।

इसे भी पढ़ें: राजस्थान के मंत्रिमंडल बदलाव मामले गहलोत सरकार नहीं देगी दखल, आलाकमान करेगा फैसला

पीड़ित परिवारों के प्रति गहरी संवेदना जताते हुए मायावती ने कहा, “राज्य सरकारों और केंद्र का भी आपदा के ऐसे मामलों में पूरी संवेदनशीलता से सक्रियता के साथ काम करना जरूरी है। पूर्वी उत्तर प्रदेश में हर साल आने वाली बाढ़ से राज्य में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार को सावधान करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा, उप्र में भी खासकर पूर्वांचल आदि के लाखों परिवार हर वर्ष बाढ़ की भीषण तबाही झेलते हैं, जिसे देखते हुए यहां की सरकार को अभी से ही सजग होकर सावधानी के सभी कदम उठाने चाहिए ताकि वहां जान-माल और पशुधन की बर्बादी तथा लोगों को आगे अति-गरीबी की विपदा से बचाया जा सके।

इसे भी पढ़ें: पेगासस जासूसी: फ्रांस के राष्ट्रपति ने इजराइल के प्रधानमंत्री से की बात

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के पुणे और कोंकण संभाग में पिछले तीन दिनों में भारी बारिश के कारण आई बाढ़ और भूस्खलन के चलते मरने वाले लोगों की संख्या शनिवार को बढ़कर 112 पर पहुंच गई। मृतकों में सबसे अधिक रायगढ़ जिले के 52 लोग शामिल हैं। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने शनिवार को कहा था कि अगले 24 घंटों में पश्चिमी तट पर बारिश की तीव्रता कम होने के आसार हैं जिससे वर्षा से प्रभावित महाराष्ट्र और गोवा को राहत मिल सकती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।