मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने बुलाई तत्काल बैठक, ज्ञानवापी मस्जिद समेत इन मुद्दों पर होगी चर्चा

Gyanvapi Mosque
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने 17 मई को अपनी कार्यकारी समिति की तत्काल बैठक बुलाई है। ज्ञानवापी मस्जिद, टीपू सुल्तान मस्जिद समेत देश के मौजूदा मुद्दों और अन्य मुद्दों पर चर्चा होगी। इस बैठक में बोर्ड अपनी भविष्य की कार्रवाई तय करेगा। आपको बता दें कि वाराणसी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद परिषद का सर्वे संपन्न हो चुका है।

नयी दिल्ली। उत्तर प्रदेश के वाराणसी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद परिषद का सर्वे संपन्न हो चुका है। इसी के साथ ही देश में बहस छिड़ गई कि क्या मस्जिद परिषद में शिवलिंग है या फिर नहीं। क्योंकि हिंदू पक्ष का दावा है कि मस्जिद परिषद में शिवलिंग मौजूद है। जिसके बाद वाराणसी कोर्ट ने उस स्थान को सील करने का आदेश दिया। जबकि मुस्लिम पक्ष का दावा है कि जिसे शिवलिंग बताया जा रहा है, असल में वो फव्वारा है। हालांकि अभी ज्ञानवापी मस्जिद परिषद की सर्वे रिपोर्ट नहीं आई है। जिसका बेसब्री के साथ इंतजार किया जा रहै है। 

इसे भी पढ़ें: सर्वे रिपोर्ट जमा करने के लिए मांगा गया 2 दिन का समय, वजूखाने और शौचालय को शिफ्ट करने की मांग

इसी बीच खबर सामने आई कि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कार्यकारी समिति की तत्काल बैठक बुलाई है। जिसके भविष्य की रणनीति तैयार की जाएगी। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने 17 मई को अपनी कार्यकारी समिति की तत्काल बैठक बुलाई है। ज्ञानवापी मस्जिद, टीपू सुल्तान मस्जिद समेत देश के मौजूदा मुद्दों और अन्य मुद्दों पर चर्चा होगी। इस बैठक में बोर्ड अपनी भविष्य की कार्रवाई तय करेगा। 

इसे भी पढ़ें: ज्ञानवापी के बाद श्रीकृष्ण जन्मभूमि मथुरा को लेकर कोर्ट में दायर हुई याचिका, ईदगाह मस्जिद परिसर को सील करने की मांग 

आयोग को चाहिए अतिरिक्त समय

ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के सर्वे कार्य से जुड़ी रिपोर्ट अभी पूरी तरह से तैयार नहीं हुई है, लिहाजा आयोग इसे पेश करने के लिए कोर्ट से दो-तीन दिन का अतिरिक्त समय मांगेगा। सहायक अधिवक्ता आयुक्त अजय प्रताप सिंह ने बताया कि कोर्ट के आदेश के अनुसार, 14 से 16 मई के बीच सुबह 8 बजे से दोपहर 12 बजे तक ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का वीडियोग्राफी-सर्वे कार्य किया गया। 17 मई को सर्वे से संबंधित रिपोर्ट कोर्ट में पेश की जानी थी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़