कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, मोगा विधायक हरजोत कमल ने थामा भाजपा का दामन, मालविका सूद के चलते मचा था घमासान

कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, मोगा विधायक हरजोत कमल ने थामा भाजपा का दामन, मालविका सूद के चलते मचा था घमासान
प्रतिरूप फोटो

मोगा से कांग्रेस विधायक हरजोत कमल में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का दामन थाम लिया है। दरअसल, हरजोत कमल ने अपने समर्थकों के साथ मंगलवार को मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से उनके आवास में मुलाकात की थी। इस दौरान उन्होंने मालविका सूद का मुद्दा उठाया था। इस पर मुख्यमंत्री ने हरजोत से कहा कि उन्ही का टिकट पक्का नहीं है।

चंडीगढ़। कांग्रेस ने पंजाब विधानसभा चुनाव के मद्देनजर उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की है। इसमें मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, प्रदेशाध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू, गायक सिद्धू मूसेवाला समेत 86 उम्मीदवारों के नाम शामिल हैं। लेकिन सूची में शामिल एक नाम के चलते पार्टी के अंदर घमासान मच गया है। पिछले कुछ महीनों से पंजाब कांग्रेस में अलग-अलग मुद्दों को लेकर घमासान जारी है, जो थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस बार विवाद फिल्म अभिनेता सोनू सूद की बहन मालविका सूद को मोगा से टिकट देने पर शुरू हो गया। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने उम्मीदवारों की पहली सूची की जारी, CM चन्नी चमकौर साहिब से तो सिद्धू अमृतसर पूर्व सीट से लड़ेंगे चुनाव  

मोगा से कांग्रेस विधायक हरजोत कमल में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का दामन थाम लिया है। दरअसल, हरजोत कमल ने अपने समर्थकों के साथ मंगलवार को मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से उनके आवास में मुलाकात की थी। इस दौरान उन्होंने मालविका सूद का मुद्दा उठाया था। इस पर मुख्यमंत्री चन्नी ने हरजोत कमल से कहा था कि उन्ही का टिकट पक्का नहीं है।

इसे भी पढ़ें: अरविंद केजरीवाल और भगवंत मान ने पंजाब के मुख्यमंत्री के क्षेत्र में किसानों से मुलाकात की

मालविका सूद को मिला टिकट

मुख्यमंत्री चन्नी और प्रदेशाध्यक्ष सिद्धू ने हाल ही में सोनू सूद से उनके आवास में मुलाकात की थी। इस दौरान उन्होंने मालविका सूद को पार्टी की सदस्यता भी दिलाई। तभी से चर्चा थी कि कांग्रेस मालविका सूद को मोगा से टिकट दे सकती है। ऐसे में हरजोत कमल को लग रहा था कि मोगा से उनका टिकट कट जाएगा और हुआ भी ऐसा ही। जबकि उनका कहना है कि वो मोगा से चुनाव जीत सकते हैं। ऐसे में मालविका सूद को पार्टी कहीं और से चुनाव लड़वा सकती है। हालांकि कांग्रेस ने उनकी बातों को नजरअंदाज कर दिया। जिसके बाद हरजोत कमल ने पार्टी को अलविदा कहते हुए चंडीगढ़ में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की मौजूदगी में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।