जमात-ए-इस्लामी जम्मू एंड कश्मीर पर कार्रवाई, शीर्ष नेताओं को हिरासत में लिया गया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 23, 2019   12:17
जमात-ए-इस्लामी जम्मू एंड कश्मीर पर कार्रवाई, शीर्ष नेताओं को हिरासत में लिया गया

जमात-ए-इस्लामी जम्मू एंड कश्मीर ने एक बयान जारी कर हिरासत में लिये जाने की निंदा की और कहा है कि यह कदम इस क्षेत्र में और अनिश्चितता का राह प्रशस्त करने के लिए भली-भांति रची गई साजिश है।

श्रीनगर। पुलिस ने शुक्रवार-शनिवार की दरम्यानी रात में कश्मीर में जमात-ए-इस्लामी जम्मू एंड कश्मीर पर कार्रवाई करते हुये इसके प्रमुख अब्दुल हमीद फैयाज सहित कम से कम 24 सदस्यों को हिरासत में ले लिया। अधिकारियों ने यहां यह जानकारी दी। पुलिस ने हिरासत में लेने की घटना को नियमित कार्रवाई बताया वहीं घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले अधिकारियों का कहना है कि यह अलगाववादी समूह तहरीक-ए-हुर्रियत से संबद्ध संगठन पर पहली बड़ी कार्रवाई है।

इसे भी पढ़ें: पुलवामा आतंकी हमले पर कुछ दल देश के साथ नहीं दिखते: भाजपा

जमात ने एक बयान जारी कर हिरासत में लिये जाने की निंदा की और कहा है कि यह कदम इस क्षेत्र में और अनिश्चितता का राह प्रशस्त करने के लिए भली-भांति रची गई साजिश है। जमात ने दावा किया 22 और 23 फरवरी की दरम्यानी रात में पुलिस और अन्य एजेंसियों ने एक व्यापक गिरफ्तारी अभियान चलाया और घाटी में कई घरों पर छापेमारी की। उसके केन्द्रीय और जिला स्तर के कई नेताओं को गिरफ्तार किया गया जिसमें अमीर (प्रमुख) डॉ. अब्दुल हमीद फैयाज और वकील जाहिद अली (प्रवक्ता) शामिल हैं। जमात के सदस्यों को दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग, पहलगाम, दिआलगाम, त्राल सहित विभिन्न स्थानों से हिरासत में लिया गया है।

इसे भी पढ़ें: अलगाववादियों की सुरक्षा और सुविधाएं छिनना सही दिशा में उठाया गया कदम

जमात ने उच्चतम न्यायालय में अनुच्छेद 35 ए पर एक याचिका की सुनवाई के समय छापेमारी को ‘संशयुक्त’ करार दिया। इसके अलावा पुलिस ने शुक्रवार रात जेकेएलएफ प्रमुख यासिन मलिक को भी हिरासत में लिया। जम्मू कश्मीर में अतिरिक्त बल तैनात किया गया है लेकिन किसी ने भी इस तरह की व्यापक तैनाती के बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। पुलवामा जिले में सीआरपीएफ के एक काफिले पर एक आतंकी हमले में 40 जवानों के शहीद होने के आठ दिनों बाद यह कार्रवाई सामने आई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।