तिहाड़ जेल में बंद पी चिदंबरम ने लोगों को पढ़ाया तमिलभाषा की महानता का पाठ!

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 29, 2019   12:18
तिहाड़ जेल में बंद पी चिदंबरम ने लोगों को पढ़ाया तमिलभाषा की महानता का पाठ!

मोदी ने भाषाई विविधता के महत्व को ऐसे वक्त रेखांकित किया जब गृह मंत्री अमित शाह ने हिंदी को एक भाषा बनाने की वकालत की थी। इस बयान के लिए शाह को तीखी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था।

नयी दिल्ली। कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने रविवार को कहा कि अगर तमिलभाषी लोग एक हो जाएं तो सभी तमिल भाषा और संस्कृति की महानता को स्वीकार करेंगे। चिदंबरम आईएनएक्स मीडिया मामले में फिलहाल तिहाड़ जेल में बंद हैं। उनका यह बयान ऐसे वक्त आया है जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ह्यूस्टन में हाउडी मोदी कार्यक्रम में कहा था कि देश की विभिन्न भाषाएं उसके उदार एवं लोकतांत्रिक समाज की अहम पहचान है।

इसे भी पढ़ें: पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को राहुल गांधी और कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने जन्मदिन की दी बधाई

मोदी ने भाषाई विविधता के महत्व को ऐसे वक्त रेखांकित किया जब गृह मंत्री अमित शाह ने हिंदी को एक भाषा बनाने की वकालत की थी। इस बयान के लिए शाह को तीखी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था।

इसे भी पढ़ें: सिर्फ मनमोहन ही इस समय देश को आर्थिक मंदी से बाहर निकालने का रास्ता दिखा सकते हैं: चिदंबरम 

चिदंबरम ने ट्वीट किया,‘‘अगर तमिलभाषी एकजुट हो जाएं और एक सुर में बोलें तो हर व्यक्ति तमिल भाषा और संस्कृति की महानता को स्वीकार करेगा।’’ गौरतलब है कि मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र में अपने संबोधन में तमिल विचारक कनियान का उल्लेख किया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।