मेडिकल संस्थानों में IMS-BHU को मिला 72वां स्थान, निदेशक, चिकित्सक व कर्मचारियों में खुशी का माहौल

मेडिकल संस्थानों में IMS-BHU को मिला 72वां स्थान, निदेशक, चिकित्सक व कर्मचारियों में खुशी का माहौल

आईएमएस निदेशक प्रोफेसर बीआर मित्तल ने इसे संस्थान की बड़ी उपलब्धि बताते हुए अगले साल रैंक और बेहतर करने के लिए अभी से प्रयास करते रहने की बात कही है।

काशी। आईएमएस निदेशक प्रोफेसर बीआर मित्तल ने कहा कि आईएमएस के माध्यम से मरीजों के इलाज, जांच की सुविधाएं बढ़ाने के साथ ही जो भी कमियां हैं उसे दूर कराया जा रहा है। एम्स जैसी सुविधाओं की पहल भी चल रही है। अगले साल और बेहतर रैंकिंग पाने का लक्ष्य है। 

इसे भी पढ़ें: बीजेपी नि‍र्वि‍रोध जीती, वाराणसी में जि‍ला पंचायत अध्‍यक्ष पद के लि‍ये सपा प्रत्याशी का पर्चा खारिज 

मित्तल ने इसे संस्थान की बड़ी उपलब्धि बताते हुए अगले साल रैंक और बेहतर करने के लिए अभी से प्रयास करते रहने की बात कही है। IMS-BHU को दुनिया के टॉप 100 मेडिकल संस्थानों में 72वां स्थान प्राप्त हुआ है, जबकि देश में यह संस्थान छठे नंबर पर है। दुनिया के शिक्षण और चिकित्सा संस्थानों का सर्वे करने वाली रिपोर्ट में यह परिणाम आने के बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बधाई दी है। आईएमएस निदेशक प्रोफेसर बीआर मित्तल ने इसे संस्थान की बड़ी उपलब्धि बताते हुए अगले साल रैंक और बेहतर करने के लिए अभी से प्रयास करते रहने की बात कही है। 

इसे भी पढ़ें: योगी सरकार के प्लान के अनुसार वाराणसी मंडल में लगेंगे 1.5 करोड़ पौधे, हर पौधे के होंगे अलग लाभ 

सर्वे में दुनिया के 100 सर्वश्रेष्ठ संस्थानों में 76.77 अंक पाकर आईएमएस बीएचयू 72वें स्थान पर है। इसके अलावा देश में भी छठा स्थान आने के बाद आईएमएस निदेशक समेत अन्य चिकित्सकों, कर्मचारियों में खुशी है। जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन 2021 के लिए दुनिया में बेस्‍ट मेडिकल स्कूल का प्रतिष्ठित खिताब हसिल किया है। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल को दूसरा स्थान जबकि पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय में पेरेलमैन स्कूल ऑफ मेडिसिन तीसरे स्थान पर है। वहीं ग्रॉसमैन स्‍कूल को चौथा और स्‍टेनफोर्ड स्‍कूल को पांचवां स्‍थान मिला है। वहीं 23 वां स्‍थान नई दिल्‍ली एम्‍स को हासिल हुआ है। 

आईएमएस में एम्स जैसी सुविधाएं मिल सके, इसके लिए स्वास्थ्य मंत्रालय, शिक्षा मंत्रालय की ओर से नई-नई योजनाएं भी शुरू की जा रही है। वर्तमान समय एमसीएच विंग निर्माण, क्षेत्रीय नेत्र संस्थान बनाए जाने सहित नए विभाग खुलने के साथ ही चिकित्सकों, स्वास्थ्यकर्मियों की तैनाती की प्रक्रिया भी चल रही है।  

इसे भी पढ़ें: वाराणसी के 84 घाटों पर हेरिटेज साइनेज लगाने का कार्य शुरू 

आईएमएस निदेशक प्रोफेसर बीआर मित्तल ने कहा कि आईएमएस के माध्यम से मरीजों के इलाज, जांच की सुविधाएं बढ़ाने के साथ ही जो भी कमियां हैं, उसे दूर कराया जा रहा है। एम्स जैसी सुविधाओं की पहल भी चल रही है। अगले साल और बेहतर रैंकिंग पाने का लक्ष्य है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।