राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंत्रियों को विभाग बांटे, गृह और वित्त विभाग खुद रखा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2021   17:47
राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंत्रियों को विभाग बांटे, गृह और वित्त विभाग खुद रखा

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंत्रिपरिषद के पुनर्गठन के बाद सोमवार को मंत्रियों को विभागों का आवंटन सोमवार किया। उन्होंने गृह एवं वित्त विभाग को अपने पास ही रखा है जबकि डॉ बीडी कल्ला राज्य के नए शिक्षा मंत्री प्राथमिक और माध्यमिक एवं परसादी लाल नए चिकित्सा व स्वास्थ्य मंत्री होंगे।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंत्रिपरिषद के पुनर्गठन के बाद सोमवार को मंत्रियों को विभागों का आवंटन सोमवार किया। उन्होंने गृह एवं वित्त विभाग को अपने पास ही रखा है जबकि डॉ बीडी कल्ला राज्य के नए शिक्षा मंत्री प्राथमिक और माध्यमिक एवं परसादी लाल नए चिकित्सा व स्वास्थ्य मंत्री होंगे। मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार गहलोत ने वित्त, गृह, कार्मिक विभाग, सूचना एवं जनसम्पर्क, स्टेट इन्वेस्टीगेशन ब्यूरो, कैबिनेट सचिवालय, सामान्य प्रशासन एवं कर विभाग अपने पास रखे हैं। उल्लेखनीय है कि गहलोत मंत्रिमंडल में बहुप्रतीक्षित फेरबदल के तहत रविवार को सत्तारूढ़ कांग्रेस के 15 विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली थी।

इसे भी पढ़ें: CM शिवराज की बड़ी घोषणा , पातालपानी रेलवे स्टेशन का नाम होगा टंट्या मामा

उनमें से 11 विधायकों को कैबिनेट एवं चार विधायकों को राज्य मंत्री के रूप में शपथ ली थी। मंत्रिपरिषद में अब मुख्यमंत्री सहित कुल 30 मंत्री हैं। पुनर्गठन के बाद पुराने मंत्रियों में परसादी लाल मीणा को स्वास्थ्य एवं उत्पाद शुल्क विभाग दिया गया जबकि बीडी कल्ला को शिक्षा विभाग दिया गया है। प्रताप सिंह खाचरियावास को खाद्य और नागरिक आपूर्ति विभाग दिया गया जबकि शांति धारीवाल के पास स्वायत्त शासन, शहरी विकास एवं आवास (यूडीएच), संसदीय मामलात विभाग बनाए रखा गया है। कृषि विभाग लाल चंद कटारिया और खान एवं पेट्रोलियम विभाग प्रमोद जैन भाया के पास ही रखा गया है। ये सब कैबिनेट मंत्री पहले से ही गहलोत मंत्रिपरिषद में थे। तीन मंत्रियों गोविंद सिंह डोटासरा शिक्षा राज्यमंत्री, डॉ रघु शर्मा चिकित्सा व स्वास्थ्य तथा हरीश चौधरी राजस्व ने इस्तीफा दिया था।

इसे भी पढ़ें: विपक्षी पार्टियां प्रजातंत्र में नहीं, परिवार तंत्र में विश्वास करती हैं : जेपी नड्डा

उनके विभाग अब अन्य मंत्रियों को दिए गए हैं। मंत्रिपरिषद में शामिल नए मंत्रियों की बात की जाए तो कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लेने वाले हेमाराम चौधरी को वन, महेश जोशी को पीएचईडी, रामलाल जाट को राजस्व, रमेश मीणा को पंचायती राज और ग्रामीण विकास, विश्वेंद्र सिंह को पर्यटन और नागरिक उड्डयन व गोविंद राम मेघवाल को आपदा प्रबंधन और राहत विभाग मिला है। पिछले साल बगावत के चलते विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को तत्कालीन उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के साथ पद से हटा दिया गया था। वे दोनों दोबारा मंत्री बने हैं। इसी तरह नए मंत्रियों में शकुंतला रावत को उद्योग विभाग मिला जबकि राज्य मंत्री से कैबिनेट मंत्री में पदोन्नत ममता भूपेश को महिला और बाल विकास, भजन लाल को लोक निर्माण विभाग तथा टीकाराम जूली को सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग मिला है। पुराने राज्यमंत्रियों में अर्जुन सिंह बामनिया के पास आदिवासी क्षेत्र विकास (टीएडी), अशोक चांदना के पास खेल और युवा मामलात विभाग, डॉ सुभाष गर्ग के पास तकनीकी शिक्षा विभाग बरकरार रखा गया है।

सुखराम को राजस्व और श्रम, भंवर सिंह भाटी को बिजली (स्वतंत्र प्रभार), राजेंद्र यादव को उच्च शिक्षा विभाग मिला है। नवनियुक्त राज्य मंत्रियों में बृजेंद्र ओला को परिवहन, देवस्थान और राज्य उद्यम, मुरारी लाल मीणा को कृषि विपणन, संपदा, पर्यटन, नागरिक उड्डयन, राजेंद्र सिंह गुढ्ढा को सैनिक कल्याण, होमगार्ड, पंचायती राज और ग्रामीण विकास, जाहिदा खान को विज्ञान और प्रौद्योगिकी, शिक्षा प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा, कला, साहित्य, संस्कृति विभाग दिया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।