भारत ने इजरायल से खरीदा 'टैंकों का काल', Mi 17 में लगेगी घातक Spike एंटी टैंक मिसाइल

भारत ने इजरायल से खरीदा 'टैंकों का काल', Mi 17 में लगेगी घातक Spike एंटी टैंक मिसाइल
Creative Common

भारतीय थल सेना की तरफ से एलआर 21 लांचर और मिसाइलों को शामिल करने की योजना है। वहीं वायुसेना रूस के एमआई 17 के हेलीकॉप्टर पर स्पाइक एनएलओएस मिसाइल लगा रही है। रक्षा विभाग के सूत्रों के अनुसार आपातकाल खरीद के तहत दोनों तरह की एंटी टैंक मिसाइलें की खरीद बहुत सीमित संख्या में की गई है।

भारतीय वायुसेना ने अपने एमआई 17 हेलीकॉप्टर के फ्लीट में एक अतिरिक्त प्रणाली जोड़ने का निर्णय लिया है। जिसके अंतर्रगत अब भारत के एमआई 17 हेलीकॉप्टर्स में इजरायल की स्पाइक नॉन लाइन ऑफ साइट मिसाइल्स को शामिल किया जाएगा। मूलत: ये एक एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल्स होंगे। जिनका इस्तेमाल भारत के एमआई 17 हेलीकॉप्टर से किया जाएगा। इनकी रेंज करीब 30 किलोमीटर की बताई जा रही है। यानी की ये एक लॉन्ग रेंज की एंटी टैंक मिसाइल होने वाली है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इन्हें मुख्यत: पहाड़ी इलाकों में तैनात किया जाएगा। ताकी दुश्मनों के टैंक, सैन्य वाहनों को आसानी से निशाना बनाया जा सके। 

इसे भी पढ़ें: डोभाल की मेजबानी, 40 देशों की जासूसी एजेंसी के प्रमुख की खुफिया बैठक, एजेंडे में चीन!

भारतीय थल सेना की तरफ से एलआर 21 लांचर और मिसाइलों को शामिल करने की योजना है। वहीं वायुसेना रूस के एमआई 17 के हेलीकॉप्टर पर स्पाइक एनएलओएस मिसाइल लगा रही है। रक्षा विभाग के सूत्रों के अनुसार आपातकाल खरीद के तहत दोनों तरह की एंटी टैंक मिसाइलें की खरीद बहुत सीमित संख्या में की गई है। जिसमें कुछ रक्षा खामियों को दूर किया जा सके। जबकि बड़ी संख्या में एंटी टैंक मिसाइलों की आवशयकता है। मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट के तहत मिसाइलों की खरीद करने का रास्ता तलाशा जा रहा है। 

इसे भी पढ़ें: भारत का तेल आयात पर खर्च दोगुना हुआ, 2021-22 में 119 अरब डॉलर का तेल खरीदा

इसके सेना की तैयारियों को धार देने के लिए बोइंग ने एक बार फिर से भारतीय सेना के लिए 60 की संख्या में अपाचे एयर 64 हैलीकॉप्टर्स का ऑफर किया है। बोइंग की तरफ से कहा गया है कि अगर भारत बड़ी संख्या में इन अटैक हेलीकॉप्टर्स का ऑर्डर देता है तो उनकी कैम्बैट कैपेब्लिटी कहीं ज्यादा बढ़ जाएगी। इसके अलावा भारतीय वायुसेना को लॉन्गबो रडार की जरूरतों के बारे में सुझाव दिया है। ये सारी जरूरतें बोइंग के द्वारा पूरी की जा सकती हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।