दुश्मनों का खात्मा करने के लिए अग्नि-5 मिसाइल तैयार ! 5000 किमी तक लक्ष्य भेदने में सक्षम, जानिए इसके बारे में सबकुछ

दुश्मनों का खात्मा करने के लिए अग्नि-5 मिसाइल तैयार ! 5000 किमी तक लक्ष्य भेदने में सक्षम, जानिए इसके बारे में सबकुछ

सतह से सतह पर हमला करने वाली अग्नि-5 मिसाइल का बुधवार को सफल परीक्षण किया गया है। रक्षा मंत्रालय ने बताया कि अग्नि-5 का सफल परीक्षण भारत की इस प्रामाणिक न्यूनतम प्रतिरोध वाली नीति के अनुरूप है जो पहले उपयोग नहीं की प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है।

नयी दिल्ली। दुश्मनों से मुकाबला करने के लिए और खुद को और भी ज्यादा सक्षम और मजबूत बनाने के लिए हमारा मुल्क लगातार कुछ न कुछ तैयार करता रहता है। इसी बीच अग्नि-5 मिसाइल का सफल परीक्षण कर हिन्दुस्तान ने सभी को दिखा दिया है कि हम किसी से कम नहीं। 

इसे भी पढ़ें: मिसाइल प्रणाली खरीद को लेकर भारत पर प्रतिबंध नहीं लगाने का बाइडन से आग्रह 

अग्नि-5 का सफल परीक्षण

आपको बता दें कि सतह से सतह पर हमला करने वाली अग्नि-5 मिसाइल का बुधवार को सफल परीक्षण किया गया है। रक्षा मंत्रालय ने बताया कि अग्नि-5 का सफल परीक्षण भारत की इस प्रामाणिक न्यूनतम प्रतिरोध वाली नीति के अनुरूप है जो पहले उपयोग नहीं की प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है।

दिसंबर 2018 तक किए गए थे 7 परीक्षण

अग्नि-5 मिसाइल का यह कोई पहला परीक्षण नहीं है। इससे पहले भी इसके परीक्षण हो चुके हैं। अग्नि-5 मिसाइल का पहला टेस्ट अप्रैल 2012 में, सितंबर 2013 में दूसरा, जनवरी 2015 में तीसरा और दिसंबर 2016 में चौथा परीक्षण किया गया था। इसी प्रकार साल 2018 तक इस मिसाइल के सात परीक्षण किए जा चुके हैं। आपको बता दें कि सभी परीक्षण पर अग्नि-5 मिसाइल खरी उतरी।

इसे भी पढ़ें: क्या है हाइपरसोनिक ग्लाइड मिसाइल, जिसके जरिये चीन ने बढ़ाई अमेरिका की टेंशन, भारत कर रहा दोगुनी क्षमता के हथियार पर काम 

चीन के साथ गतिरोध के बीच हुआ परीक्षण

अग्नि-5 मिसाइल का सफल परीक्षण ऐसे समय पर हुआ तब पूर्वी लद्दाख पर वास्तविक नियंत्रण रेखा को लेकर भारत और चीन के बीच तनातनी का माहौल है। इतना ही नहीं चीन लगातार अपने सैन्य साजो-सामान को बढ़ाने की कोशिशों में जुटा हुआ है। आपको बता दें कि ओडिशा में बुधवार को एपीजे अब्दुल कलाम द्वीप से देर शाम करीब 7 बजकर 50 मिनट पर परीक्षण किया गया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।