UN में भारत की सबसे जूनियर अफसर ने खोली इमरान की पोल, पाक को बताया आतंकियों को पेंशन देने वाला देश

UN में भारत की सबसे जूनियर अफसर ने खोली इमरान की पोल, पाक को बताया आतंकियों को पेंशन देने वाला देश

इमरान खान ने यूएन में 20 मिनट की तय समय-सीमा को तोड़ते हुए 50 मिनट लंबा भाषण दिया। इस दौरान उन्होंने एक बार फिर कश्मीर पर रोना रोते हुए कहा कि कश्मीर से कर्फ्यू हटने के बाद वहां काफी खून-खराबा होगा। जिस पर भारत ने ''राइट टू रिप्लाई'' के तहत इमरान खान के झूठ का पर्दाफाश करने की जिम्मेदारी यूएन में सबसे नई और जूनियर अफसर विदिशा मैत्रा को दी।

संयुक्त राष्ट्र में भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान के आरोपों का करारा जबाव दिया है। संयुक्त राष्ट्र में भारत की प्रथम सचिव विदिशा मैत्रा पाकिस्तान के झूठ की पोल खोलती नजर आईं।  सुयंक्त राष्ट्र में भारत की प्रथम सचिव विदिशा मैत्रा ने कहा कि इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र के मंच का गलत इस्तेमाल किया है। उन्होंने इमरान खान के भाषण को नफरत से भरा बताते हुए कहा कि  पाकिस्तान इस बात को स्वीकार करेगा कि वो दुनिया का एकमात्र देश है जो वैसे शख्स को पेंशन देता है जिसे संयुक्त राष्ट्र ने अल कायदा और आईएसआईएस जैसे आतंकियों की लिस्ट में रखा है। मैत्रा ने कहा कि मानवाधिकार की बात करने वाले पाकिस्तान को सबसे पहले पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की हालत देखनी चाहिए, जिनकी संख्या 23 प्रतिशत से 3 प्रतिशत पर पहुंच गई है।

बता दें कि इमरान खान ने यूएन में 20 मिनट की तय समय-सीमा को तोड़ते हुए 50 मिनट लंबा भाषण दिया। इस दौरान उन्होंने एक बार फिर कश्मीर पर रोना रोते हुए कहा कि कश्मीर से कर्फ्यू हटने के बाद वहां काफी खून-खराबा होगा। जिस पर भारत ने 'राइट टू रिप्लाई' के तहत इमरान खान के झूठ का पर्दाफाश करने की जिम्मेदारी यूएन में सबसे नई और जूनियर अफसर विदिशा मैत्रा को दी। विदिशा के जरिए जवाब देकर भारत ने यह साफ कर दिया कि वह इमरान खान को तवज्जो नहीं देता है। विदिशा यूएन में भारतीय मिशन की सबसे नई सदस्य हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।