यूक्रेन से भारतीयों को निकालने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था कर रही भारत सरकार, वी. मुरलीधरन बोले- मैंने छात्रों से की फोन पर बात

यूक्रेन से भारतीयों को निकालने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था कर रही भारत सरकार, वी. मुरलीधरन बोले- मैंने छात्रों से की फोन पर बात
प्रतिरूप फोटो

विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन ने बताया कि विदेश मंत्रालय यूक्रेन से छात्रों सहित लगभग 18,000 भारतीयों को वापस लाने के लिए कदम उठा रहा है। यूक्रेन में हवाई क्षेत्र बंद है इसलिए भारतीय नागरिकों को निकालने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की जा रही है। केंद्र सरकार सभी भारतीयों की सुरक्षा सुनिश्चित करेगी।

नयी दिल्ली। यूक्रेन पर रूसी सैनिकों के हमला करने के बाद सड़कों पर जाम लग गया है। इसके अलावा यूक्रेन का हवाई क्षेत्र भी बंद है और रेल सेवा पर दबाव बढ़ गया है। इसी बीच भारत के विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन ने गुरुवार को भारतीयों को वहां से निकालने के मिशन के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि विदेश मंत्रालय यूक्रेन से छात्रों सहित लगभग 18,000 भारतीयों को वापस लाने के लिए कदम उठा रहा है। 

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेनस्की सहित कई नेता ने रूसी हमले से बचाव के लिए मदद की गुहार लगायी 

घबराएं नहीं छात्र और अभिभावक

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन ने बताया कि विदेश मंत्रालय यूक्रेन से छात्रों सहित लगभग 18,000 भारतीयों को वापस लाने के लिए कदम उठा रहा है। यूक्रेन में हवाई क्षेत्र बंद है इसलिए भारतीय नागरिकों को निकालने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की जा रही है। केंद्र सरकार सभी भारतीयों की सुरक्षा सुनिश्चित करेगी।

उन्होंने कहा कि मैंने यूक्रेन में मलयाली छात्रों से फोन पर बात की। यूक्रेन के दक्षिणी इलाकों में रहने वाले भारतीय छात्रों ने हमें बताया कि उन्हें खाना, पानी और बिजली मिल रही है। छात्र और अभिभावक घबराएं नहीं। सरकार ने इराक जैसी जगहों से भी भारतीयों को वापस लाए हैं। 

इसे भी पढ़ें: रूस ने यूक्रेन पर किया हमला, पुतिन ने अमेरिका-नाटो को चेताया 

भारतीयों से शांत रहने का किया अनुरोध

वहीं यूक्रेन में भारतीय दूत ने कहा कि स्थिति अत्यधिक तनावपूर्ण और बहुत अनिश्चित है, यह बहुत चिंता पैदा कर रही है। उन्होंने कहा कि हवाई क्षेत्र बंद है, रेल सेवा पर दबाव बढ़ गया है और सड़कों पर जाम लग गया है। भारतीय राजदूत ने भारतीयों से कहा कि मैं सभी से शांत रहने और मजबूती के साथ स्थिति का सामना करने का अनुरोध करूंगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।