Covid-19: उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर 1,92,308 हुई; कुल मामलों का सिर्फ 1.81 प्रतिशत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 21, 2021   14:30
  • Like
Covid-19: उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर 1,92,308 हुई; कुल मामलों का सिर्फ 1.81 प्रतिशत

कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर 1,92,308 हुई।पिछले 24 घंटे के अंतराल में आयोजित 2,398 सत्रों में 1,31,649 लोगों को टीका लगाया गया। अब तक कुल 14,118 सत्र आयोजित किए गए हैं।

नयी दिल्ली।देश में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर 1,92,308 रह गई है, जो संक्रमण के कुल मामलों का 1.81 प्रतिशत है। देश के कुल उपचाराधीन मामलों में से 73 प्रतिशत मामले केरल, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक और पश्चिम बंगाल में हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को यह जानकारी दी। मंत्रालय ने कहा कि अब तक, कुल 8,06,484 लोगों को कोविड-19 के टीके लगाए गए हैं। पिछले 24 घंटे के अंतराल में आयोजित 2,398 सत्रों में 1,31,649 लोगों को टीका लगाया गया। अब तक कुल 14,118 सत्र आयोजित किए गए हैं। बीमारी से ठीक होने वाले लोगों की संख्या बढ़ने और संक्रमण के नए मामलों में गिरावट आने से उपचाराधीन मरीजों की संख्या में कमी आई है।

इसे भी पढ़ें: ठाणे में देह-व्यापार कराने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़, तीन लोग गिरफ्तार

एक दिन में कुल उपचाराधीन मामलों में 4,893 मामलों की गिरावट दर्ज की गई है। मंत्रालय ने कहा, उपचाराधीन मामलों में लगातार गिरावट के राष्ट्रीय परिदृश्य में 17 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में प्रति दस लाख जनसंख्या पर ये मामले राष्ट्रीय औसत से भी कम है। भारत में प्रति दस लाख जनसंख्या पर 7,689 मामले हैं। देश के कुल इलाजरत मामलों में से 73 प्रतिशत मामले केरल, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक और पश्चिम बंगाल में हैं। मंत्रालय ने कहा कि 24 घंटे के अंतराल में कुल 19,965 लोग ठीक हुए हैं। देश में संक्रमण से ठीक हो चुके लोगों की कुल संख्या बढ़कर 1,02,65,706 हो गई है। ठीक होने वाले मरीजों में से 87.06 फीसदी 10 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के हैं। केरल में एक दिन में सबसे अधिक 7,364 मरीज ठीक हुए।

इसे भी पढ़ें: मेघालय, मणिपुर और त्रिपुरा के स्थापना दिवस पर बोले उपराष्ट्रपति, इन राज्यों पर देश को गर्व

महाराष्ट्र में 4,589 मरीज ठीक हुए। संक्रमण के नए मामलों में से 83 फीसदी मामले आठ राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में आए हैं। केरल में पिछले 24 घंटों में सबसे अधिक 6,815 नए मामले सामने आए। महाराष्ट्र में 3,015 नए मामले आए जबकि छत्तीसगढ़ में 594 नए मामले सामने आए हैं। 24 घंटे के अंतराल में देश में हुईं 151 मौतों में से 83.44 प्रतिशत मौतें आठ राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में हुई हैं। महाराष्ट्र में 59 मौतें हुईं। केरल में 18 और छत्तीसगढ़ में 10 लोगों की मौत हुई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


राकेश टिकैत बोले, कृषि कानून वापस नहीं लिए जाने तक जारी रहेगा आंदोलन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 7, 2021   10:42
  • Like
राकेश टिकैत बोले, कृषि कानून वापस नहीं लिए जाने तक जारी रहेगा आंदोलन

राकेश टिकैत ने शनिवार को कहा कि किसानों की मांग है कि तीनों कृषि कानून पूरी तरह से वापस लिए जाएं और जब तक सरकार उनकी मांगे नहीं मानती, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने इस मौके पर टैक्टर रैली को रवाना किया।

मुजफ्फरनगर। किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि जब तक तीन नए कृषि कानून रद्द नहीं हो जाते, तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के आंदोलन के सौ दिन पूरे होने के मौके पर यहां रामराज कस्बे में आयोजित कार्यक्रम में टिकैत ने यह कहा। टिकैत ने शनिवार को कहा कि किसानों की मांग है कि तीनों कृषि कानून पूरी तरह से वापस लिए जाएं और जब तक सरकार उनकी मांगे नहीं मानती, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने इस मौके पर टैक्टर रैली को रवाना किया। 

इसे भी पढ़ें: छात्रा के सवालों का जवाब नहीं दे पाए राकेश टिकैत, फिर बंद कराया गया माइक

उन्होंने बताया कि यह रैली उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के जिलों में जाएगी और 27 मार्च को गाजीपुर में किसानों के प्रदर्शन स्थल पर पहुंचेगी। इस बीच, मुजफ्फरनगर से सांसद एवं केंद्रीय मंत्री संजीव बालयान ने कहा कि तीनों कृषि कानून किसानों के लिए लाभकारी हैं। उन्होंने कहा, ‘‘कृषि कानूनों के कारण यदि एक भी किसान की जमीन ली गई तो मैं संसद की सदस्यता से इस्तीफा दे दूंगा। ये कानून किसानों की इच्छा के मुताबिक ही लागू किए गए हैं।’’ उल्लेखनीय है कि नवंबर माह के अंत से दिल्ली की सीमाओं पर हजारों की संख्या में किसान केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


नितिन गडकरी, संघ प्रमुख ने लगवाई कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 7, 2021   10:21
  • Like
नितिन गडकरी, संघ प्रमुख ने लगवाई कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत और नितिन गडकरी ने नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट में कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक लगवाई।

नागपुर। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत और केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शनिवार को यहां कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक लगवाई। भागवत और संघ के सरकार्यवाह भैय्याजी जोशी ने नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट में टीके की पहली खुराक लगवाई। आज दिन में गडकरी और उनकी पत्नी ने भी इंस्टीट्यूट में टीके की पहली खुराक लगवाई थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


दिल्ली CM केजरीवाल ने कहा- आप दलितों और उन सभी समुदायों के साथ है, जिनका कोई नहीं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 7, 2021   10:16
  • Like
दिल्ली CM केजरीवाल ने कहा- आप दलितों और उन सभी समुदायों के साथ है, जिनका कोई नहीं

केजरीवाल ने यहां तुगलकाबाद औद्योगिक क्षेत्र में राष्ट्रीय शोषित परिषद के परिसर का उद्घाटन करते हुए आरोप लगाया कि बीते 70 वर्षों में आर्थिक रूप से पिछड़ों को शिक्षा से वंचित रखना राजनीतिक दलों की साजिश रही है।

नयी दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को एक कार्यक्रम में कहा कि आम आदमी पार्टी (आप) दलितों और उन सभी से संबंध रखती है, जिसके साथ कोई नहीं है। केजरीवाल ने यहां तुगलकाबाद औद्योगिक क्षेत्र में राष्ट्रीय शोषित परिषद के परिसर का उद्घाटन करते हुए आरोप लगाया कि बीते 70 वर्षों में आर्थिक रूप से पिछड़ों को शिक्षा से वंचित रखना राजनीतिक दलों की साजिश रही है ताकि दलित गरीब ही रहें और अमीर और अमीर बन जाएं।

इसे भी पढ़ें: अरविंद केजरीवाल का बड़ा ऐलान, दूसरे राज्यों की तरह दिल्ली का भी अपना शिक्षा बोर्ड होगा

मुख्यमंत्री ने कहा, बीते छह साल में हम दिल्ली में शिक्षा के क्षेत्र में क्रांति लेकर आए हैं। हमने बाबा साहेब आंबेडकर के सपनों को पूरा करने के लिये काम किया है, जिन्होंने हमेशा कहा कि दलित समुदाय के लिये समाज के दूसरे तबकों के बराबर पहुंचने में शिक्षा एक कुंजी है। उन्होंने कहा, मैं भाग्यशाली हूं कि दलित समाज मेरे साथ है। दलित समुदाय ने आम आदमी पार्टी को स्वीकार किया है। यह आपकी पार्टी है। यह दलितों, गरीबों, वंचितों और उन लोगों की पार्टी है, जिनका कोई नहीं है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept