पुलवामा से भी बड़ा गुजरात में हो सकता है आतंकी हमला, IB ने जारी किया अलर्ट

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 19, 2019   11:15
पुलवामा से भी बड़ा गुजरात में हो सकता है आतंकी हमला, IB ने जारी किया अलर्ट

विभाग की ओर से यह चेतावनी 14 फरवरी के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले के बाद जारी की गई है। हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए हैं।

अहमदाबाद। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में पिछले सप्ताह हुए हमले की पृष्ठभूमि में खुफिया विभाग ने गुजरात में भी आतंकवादी हमले की चेतावनी दी है। इसके मद्देनजर राज्य सरकार ने सोमवार को सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने गांधीनगर में आयोजित एक बैठक में राज्य पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था और तैयारियों का जायजा लिया। उन्होंने नर्मदा जिले में स्थित स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, सरदार सरोवर बांध और सोमनाथ मंदिर सहित अन्य संवेदनशील जगहों की सुरक्षा के संबंध में शीर्ष अधिकारियों के विचार जाने।

इसे भी पढ़ें- पाक को बड़ा सबक सिखाने की तैयारी, इन विकल्पों पर सरकार कर रही है विचार

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि राज्य खुफिया विभाग की ओर से संभावित आतंकवादी हमले की चेतावनी मिलने के बाद गुजरात पुलिस को हाई अलर्ट पर रखा गया है। विभाग की ओर से यह चेतावनी 14 फरवरी के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले के बाद जारी की गई है। हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए हैं।

इसे भी पढ़ें-पुलवामा हमले के सूत्रधार जैश के दो कमांडरों समेत 3 आतंकी ढेर, 6 जवान भी शहीद

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि यह एक सामान्य चेतावनी है जिसमें महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा कड़ी करने को कहा गया है। राज्य के मुख्य सचिव जे. एन. सिंह ने बैठक में कहा कि मुख्यमंत्री ने पुलिस द्वारा उठाए गए कदमों की समीक्षा की। सिंह के अलावा बैठक में राज्य के पुलिस प्रमुख शिवानंद झा, गृह सचिव ए. एम. तिवारी, राज्य के गृहमंत्री प्रदीपसिंह जडेजा सहित पुलिस तथा खुफिया विभाग के विभिन्न अधिकारी शामिल थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।