Bengal News: ममता का कार्टून शेयर करने वाले जादवपुर यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर को 11 साल बाद किया गया बरी, जानिए क्या है पूरा मामला

Jadavpur University
Creative Common
अभिनय आकाश । Jan 20, 2023 6:35PM
12 अप्रैल 2012 को पूर्वी जादवपुर पुलिस थाने में उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई और बाद में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। महापात्रा ने कहा कि उनकी लड़ाई हर तरह के अत्याचार के खिलाफ है। अलीपुर जिला न्यायालय ने निचली अदालत से प्रोफेसर को आपराधिक मामले से मुक्त करने के आदेश दिए।

ममता बनर्जी और मुकुल रॉय के बारे में कथित रूप से मानहानिकारक कार्टून फॉरवर्ड करने के आरोप में गिरफ्तार जादवपुर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अंबिकेश महापात्रा को 11 साल की कानूनी लड़ाई के बाद मामले में बरी कर दिया गया। 12 अप्रैल 2012 को पूर्वी जादवपुर पुलिस थाने में उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई और बाद में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। महापात्रा ने कहा कि उनकी लड़ाई हर तरह के अत्याचार के खिलाफ है। अलीपुर जिला न्यायालय ने निचली अदालत से प्रोफेसर को आपराधिक मामले से मुक्त करने के आदेश दिए। 

इसे भी पढ़ें: ममता पिछड़ी जातियों, अल्पसंख्यक छात्रों की छात्रवृत्ति रोके जाने को लेकर केंद्र पर बरसीं

प्रोफेसर ने कहा कि बंगाल सरकार, पुलिस प्रशासन और सत्ता पक्ष के गुंडों द्वारा सरकार के खिलाफ किसी भी तरह की आवाज को रोकने के लिए एक तरह की साजिश थी। महापात्रा पर राज्य सरकार द्वारा सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 66ए और भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत आरोप लगाए गए थे। महापात्रा और हाउसिंग कॉम्प्लेक्स के तत्कालीन सचिव सुब्रत सेनगुप्ता को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम (आईटी ऐक्ट), 2000 की धारा 66ए के तहत मामला दर्ज किया।

अन्य न्यूज़