1958 में बनी जेल भरभराकर गिरी, 22 मलबे में दबे , 2 की हालत गंभीर

1958 में बनी जेल भरभराकर गिरी, 22 मलबे में दबे , 2 की हालत गंभीर

भिण्ड जिला जेल में शनिवार सुबह एक बड़ा हादसा हो गया है। जेल की एक बैरक सुबह गिर गई। बताया जा रहा है कि हादसे में बैरक में मौजूद 22 कैदी दब गए।

भोपाल। मध्य प्रदेश के भिण्ड जिला जेल में शनिवार सुबह एक बड़ा हादसा हो गया है। जेल की एक बैरक सुबह गिर गई। बताया जा रहा है कि हादसे में बैरक में मौजूद 22 कैदी दब गए। फिलहाल सभी घायलों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जिसमें से 2 की हालत गंभीर है।

इसे भी पढ़ें:मां ने किया मोबाइल पर गेम खेलने से मना, बच्चे ने की आत्महत्या 

आपको बता दें कि जेल प्रबंधन के मुताबिक हादसा सुबह सवा पांच बजे का है। जेल में 6 बैरक हैं जिसमें 255 कैदी बंद है। जो सुबह अचानक भरभराकर गिर गया। जिस दौरान हादसा हुआ उस दौरान सभी 64 कैदी बैरक के अंदर ही मौजूद थे।

वहीं हादसे के बाद राहत एवं बचाव कार्य शुरु किया गया। मलबे के अंदर दबे कैदियों को बाहर निकाला गया और उन्हें इलाज के लिए तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया। जानकारी के अनुसार जेल 1958 में बनी थी और लगातार बारिश होने की वजह से ही यह हादसा हुआ है।

इसे भी पढ़ें:शाशन और प्रशासन को है बड़े हादसे का इंतज़ार, जानिए पूरा मामला 

दरअसल हादसे में जेल प्रबंधन की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। हादसे में घायल कैदियों ने जेल प्रबंधन पर आरोप लगाया है कि लगातार हो रही बारिश से जेल की दीवार दरकने लगी थी। जिसकी शिकायत जेल प्रशासन से की गई थी। लेकिन जेल प्रशासन ने उनकी शिकायत पर ध्यान नहीं दिया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।