जम्मू कश्मीर भाजपा प्रमुख बोले, ‘गुपकार गैंग’ की साजिशों को नहीं किया जाएगा बर्दाश्त

Ravinder Raina
जम्मू कश्मीर भाजपा प्रमुख रविंदर रैना ने नेशनल कांफ्रेंस और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) का जिक्र करते हुए दावा किया कि जब वे सत्ता में थे तो भारत की सराहना करते थे, लेकिन जब वे सत्ता से बाहर हैं तो उन्हें पाकिस्तान और चीन की याद आ रही है। भाजपा नेता ने आरोप लगाया, ‘‘उन्हेंभारत विरोधी एजेंडा आगे नहीं बढ़ाने दिया जाएगा।

जम्मू। जम्मू कश्मीर भाजपा प्रमुख रविंदर रैना ने शनिवार को कहा कि ‘गुपकर गैंग’ की साजिशों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और देश की एकता एवं अखंडता को चुनौती देने वाले किसी भी व्यक्ति के लिये जेल में जगह होगी। उन्होंने दिवाली और स्वतंत्रता दिवस समारोह की तरह ही 26 अक्टूबर को ‘विलय दिवस’ के रूप में मनाने की भी घोषणा की, ताकि यह स्पष्ट संदेश दिया जा सके कि जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्नहिस्सा है। उन्होंने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश में सिर्फ राष्ट्रीय ध्वज फहरेगा। उन्होंने पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती के एक बयान के जवाब में यह कहा। महबूबा ने शुक्रवार को कहा था कि जब तक जम्मू-कश्मीर को लेकर पिछले साल पांच अगस्त को संविधान में किए गए बदलावों को वापस नहीं ले लिया जाता, तब तक उन्हें चुनाव लड़ने अथवा तिरंगा थामने में कोई दिलचस्पी नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर में एमबीबीएस सीटों की संख्या 500 से बढ़कर 1100 हुई

रैना ने नेशनल कांफ्रेंस और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) का जिक्र करते हुए दावा किया कि जब वे सत्ता में थे तो भारत की सराहना करते थे, लेकिन जब वे सत्ता से बाहर हैं तो उन्हें पाकिस्तान और चीन की याद आ रही है। भाजपा नेता ने आरोप लगाया, ‘‘उन्हेंभारत विरोधी एजेंडा आगे नहीं बढ़ाने दिया जाएगा। उन्हें कोशिश कर लेने दीजिए, गुपकर गैंग छह दलों से बढ़ कर 600 तक पहुंच रहा है लेकिन हम उनके सपनों को पूरा नहीं होने देंगे। वे सत्ता के भूखे लोग हैं और जम्मू कश्मीर की जनता उन्हें बखूबी जानती है। नेकां और पीडीपी सहित जम्मू कश्मीर की मुख्य धारा की राजनीतिक पार्टियों ने राज्य का विशेष दर्जा बहाल करने के लिये इस महीने की शुरूआत में गुपकर घोषणापत्र के लिये एकगठबंधन बनाया था।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़