जम्मू कश्मीर भाजपा ने विलय दिवस पर तिरंगा रैली निकाली, अब्दुल्ला व मुफ्ती के घरों के बाहर नारेबाजी

Jammu and Kashmir BJP
जम्मू कश्मीर सरकार ने विलय दिवस पर अवकाश की घोषणा की थी। 26 अक्टूबर, 1947 को जम्मू कश्मीर रियासत का भारत में विलय हुआ था। भाजपा के कई नेता और कार्यकर्ता यहां टैगोर हॉल में एकत्र हुए जहां इस अवसर पर एक समारोह आयोजित किया गया।
श्रीनगर। भाजपा की कश्मीर इकाई ने विलय दिवस मनाने के लिए सोमवार को यहां तिरंगा रैली निकाली और पार्टी ने कहा कि इसमें लोगों की भागीदारी घाटी में ‘‘देशद्रोही’’ बयान देने वालों पर ‘‘करारा तमाचा’’है। जम्मू कश्मीर सरकार ने विलय दिवस पर अवकाश की घोषणा की थी। 26 अक्टूबर, 1947 को जम्मू कश्मीर रियासत का भारत में विलय हुआ था। भाजपा के कई नेता और कार्यकर्ता यहां टैगोर हॉल में एकत्र हुए जहां इस अवसर पर एक समारोह आयोजित किया गया। पार्टी के एक प्रवक्ता ने कहा कि इसकी शुरुआत महाराजा हरि सिंह, भारत माता और मकबूल शेरवानी की तस्वीरों पर माल्यार्पण से हुई। मक़बूल शेरवानी ने पाकिस्तान समर्थित कबाइलियों को आगे नहीं बढ़ने दिया था। उन्होंने कहा कि इसके बाद तिरंगा रैली निकाली गई जिसका नेतृत्व भाजपा महासचिव और कश्मीर प्रभारी विबोध गुप्ता ने किया। रैली टैगोर हॉल से शुरू होकर डल झील के किनारे संपन्न हुई। रैली में दर्जनों वाहन शामिल थे जिनपर तिरंगा फहर रहा था। यह रैली गुपकार रोड से होकर गुजरी और कार्यकर्ताओं ने नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला तथा पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती के घरों के बाहर नारे लगाए। 

इसे भी पढ़ें: भारतीय ध्वज का अनादर कर रही हैं महबूबा मुफ्ती, अनुच्छेद 370 बहाल नहीं होगा: रविशंकर प्रसाद

इस अवसर पर गुप्ता ने कहा कि रैली में लोगों की बड़े पैमाने पर भागीदारी कश्मीर के उन तथाकथित नेताओं पर एक करारा तमाचा है जिन्होंने पिछले कुछ दिनों में देशद्रोही बयान दिए हैं।’’ सोमवार की रैली के दौरान एक गाड़ी पर गलती से तिरंगा झंडा उलटा लगा हुआ था। इसमें हरा रंग ऊपर और केसरिया नीचे की ओर था। यह झंडा जिस गाड़ी के आगे लगा हुआ था, उसमें भाजपा नेता अल्ताफ ठाकुर सवार थे। झंडे से संबंधित यह गलती सोशल मीडिया पर वायरल हो गई।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़