देश को दहलाने की साजिश नाकाम, जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकी यूपी से गिरफ्तार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 22, 2019   14:04
देश को दहलाने की साजिश नाकाम, जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकी यूपी से गिरफ्तार

उन्होंने बताया कि गिरफ्तार संदिग्ध आतंकवादियों में से शाहनवाज जम्मू कश्मीर के कुलगाम का रहने वाला है वहीं उसका साथी आकिब अहमद पुलवामा का निवासी है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस के आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस)ने आतंकवादी संगठन जैश ए मोहम्मद के दो संदिग्ध सदस्यों को सहारनपुर के देवबंद से गिरफ्तार किया है। पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह ने शुक्रवार को यहां प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि यूपी एटीएस को दो दिन पहले सूचना मिली थी कि देवबंद में जैश ए मोहम्मद से जुड़े दो आतंकवादी छात्र के रूप में रह रहे हैं। सर्विलांस की मदद से उनकी पड़ताल की गई तो शक और मजबूत हो गया। सिंह ने बताया कि कल शाम एटीएस के वरिष्ठ अधिकारियों को मौके पर भेजा गया और जब उन संदिग्धों के बारे में जानकारी पुख्ता हो गई तो कल रात दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया।

उन्होंने बताया कि गिरफ्तार संदिग्ध आतंकवादियों में से शाहनवाज जम्मू कश्मीर के कुलगाम का रहने वाला है वहीं उसका साथी आकिब अहमद पुलवामा का निवासी है। उनके पास से कुछ हथियार, मोबाइल में वीडियो, कुछ फोटोग्राफ तथा कुछ अन्य संदिग्ध सामग्री बरामद की गई है जिन्हें खंगाला जा रहा है। सिंह ने बताया कि शाहनवाज और आकिब अहमद अपने संगठन में युवकों की भर्ती के लिए उत्तर प्रदेश आए थे। शुरुआती पूछताछ में पता चला है कि इनमें से शाहनवाज बम बनाने में माहिर होने के साथ-साथ आतंकवाद का प्रशिक्षण भी देता है।

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री मोदी को साउथ कोरिया ने दिया सियोल शांति पुरुस्कार

पुलिस महानिदेशक ने बताया कि पकड़े गए दोनों संदिग्ध आतंकवादियों की उम्र 20 से 25 साल के बीच है दोनों को ट्रांजिट रिमांड पर लखनऊ लाकर अदालत में पेश किया जाएगा। इस बात की भी जांच की जाएगी कि दोनों ने उत्तर प्रदेश में कितने युवाओं को अपने संगठन में भर्ती किया है। इन दोनों का निशाना क्या था।इनका कौन धन मुहैया करा रहा था, और क्या पिछली 14 फरवरी को जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले में दोनों का कोई हाथ था या नहीं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।