गुप्त फाइलों से बड़ा खुलासा: क्या नेताजी के असर से डर गए थे नेहरू? परिवार के पीछे IB को लगा दिया था

गुप्त फाइलों से बड़ा खुलासा: क्या नेताजी के असर से डर गए थे नेहरू? परिवार के पीछे IB को लगा दिया था

इंडिया टुडे के अनुसार 1948 से 1968 तक खुफिया एजेंसी आईबी ने नेताजी के परिवार की जासूसी की थी। इन 20 वर्षों में 16 साल तो नेहरू ही प्रधानमंत्री थे। आईबी सीधे प्रधानमंत्री को रिपोर्ट करती थी।

जिन जवाहर लाल नेहरू के साथ मिलकर नेताजी ने आजादी की लड़ाई लड़ी थी, उन्हीं ने उनके परिवार की जासूसी करवाई थी। इंडिया टुडे ने इस बारे में अपनी एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी। जिसमें कहा गया था कि नेहरू के जमाने में आईबी ने सुभाष चंद्र बोस की जासूसी की थी। इंडिया टुडे के अनुसार 1948 से 1968 तक खुफिया एजेंसी आईबी ने नेताजी के परिवार की जासूसी की थी। इन 20 वर्षों में 16 साल तो नेहरू ही प्रधानमंत्री थे। आईबी सीधे प्रधानमंत्री को रिपोर्ट करती थी। इंडिया टुडे की रिपोर्ट में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की पत्नी एमिली शेंकल के खत का जिक्र है  जिसे उन्होंने भतीजे शिशिर कुमार बोस के नाम लिखा था। 

वियना, 20 अक्टूबर 1952

अनीता अपने स्कूल में अच्छा कर रही है, उसकी सेहत भी अच्छी है। वो बड़ी हो रही है लेकिन मोटी नहीं है। वो स्कूल में अंग्रेजी की शिक्षा ले रही है। उसे इसमें मजा आ रहा है। ये खत वियना से हिन्दुस्तान में शिशिर बोस के लिए चला लेकिन पहले ये आईबी के अधिकारियों के नजरों से गुजरा। कोलकाता में पत्र के अभिभाषक नेताजी के भतीजे शिशिर कुमार बोस इसे पढ़ने वाले पहले व्यक्ति नहीं थे। ऐसा करने से पहले, कई इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) के अधिकारियों ने चुपचाप खत का फोटोकॉपी कराकर सीक्रेट फाइल में रख लिया। रिपोर्ट के अनुसार इन फाइलों से पता चलता है कि आईबी के जासूस छुपकर देश विदेश में उनके घर के सदस्यों का पीछा करते थे। वे उन सब बातों की जानकारी रखते थे कि घर के लोग किनसे मिल रहे हैं। क्या बातें कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: Netaji Subhas Chandra Bose | ममता बनर्जी ने पीएम मोदी से की अपील, नेताजी के जन्मदिन को राष्ट्रीय अवकाश घोषित करें

 केंद्रीय गृह मंत्रालय और राष्ट्रीय अभिलेखागार में रखी गई ये फाइलें अब आजाद भारत के गंदे राज्य के रहस्य को उजागर करती हैं। दो दशकों तक, 1948 और 1968 के बीच, सरकार ने बोस परिवार के सदस्यों को गहन निगरानी में रखा। गुप्तचरों ने एक स्वतंत्रता सेनानी के परिवार के पत्रों को इंटरसेप्ट किया, पढ़ा और रिकॉर्ड किया, जो 25 वर्षों तक नेहरू के राजनीतिक सहकर्मी थे। जब वे भारत और विदेश की यात्रा कर रहे थे, तो आईबी ने परिवार के सदस्यों का सावधानीपूर्वक पता लगाया, वे किससे मिले और उन्होंने क्या चर्चा की, इसके बारे में विस्तार से रिकॉर्ड किया।

इसे भी पढ़ें: इंडिया गेट पर नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा: क्या है होलोग्राम टेक्नोलॉजी और इसे आप इसे अपने स्मार्टफोन से घर पर कैसे बना सकते हैं

 इस खुलासे ने बोस परिवार को झकझोर कर रख दिया है। पोते चंद्र कुमार बोस का कहना है कि उन लोगों पर निगरानी की जाती है जिन्होंने अपराध किया है या आतंकवादी लिंक हैं। नेताजी और उनके परिवार ने देश की आजादी के लिए लड़ाई लड़ी, उन्हें निगरानी में क्यों रखा जाना चाहिए?" अपने से पूछते हैं। सुभाष बोस की इकलौती संतान अनीता बोस-फाफ, जो जर्मनी की अर्थशास्त्री हैं, का कहना है कि वह खुलासे से चौंक गई हैं। "मेरे चाचा (शरत चंद्र) 1950 के दशक तक राजनीतिक रूप से सक्रिय थे और कांग्रेस नेतृत्व से असहमत थे। लेकिन मुझे आश्चर्य है कि मेरे चचेरे भाई निगरानी में हो सकते थे।

इसे भी पढ़ें: Republic Day Celebrations | इंडिया गेट पर नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा स्थापित करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

हालांकि इस जासूसी की वजह पूरी तरह साफ नहीं हो पाई है। आईबी ने नेताजी के भतीजों शिशिर कुमार बोस और अमिय नाथ बोस पर कड़ी निगरानी रखी। 1939 में नेताजी ने अपने भतीजे अमिय नाथ बोस को लिखे एक पत्र में जवाहरलाल नेहरू से ज्यादा मुझे किसी ने नुकसान नहीं पहुंचाया। महात्मा गांधी की राजनीतिक विरासत के दो दावेदार तब अलग हो गए जब उन्होंने सुभाष बोस की जगह नेहरू को अपना राजनीतिक उत्तराधिकारी चुना क्योंकि उन्होंने पूर्ण स्वतंत्रता के लिए बाद के धक्का से असहज थे। इस बीच, नेहरू नाजी जर्मनी और फासिस्ट इटली के लिए बोस की प्रशंसा से असहज थे। अंत में, नेताजी ने 1939 में कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में इस्तीफा दे दिया। इतिहासकार रुद्रांगशु मुखर्जी की 2014 की पुस्तक नेहरू एंड बोस: पैरेलल लाइव्स में कहा गया है कि "बोस विश्वास था कि वह और जवाहरलाल इतिहास रच सकते हैं। लेकिन जवाहरलाल गांधी के बिना अपना भाग्य नहीं देख सकते थे, और गांधी के पास सुभाष के लिए कोई जगह नहीं थी। 

बोस से डर गए थे नेहरू?

एमजे अकबर मानते हैं कि इसका एकमात्र उचित स्पष्टीकरण यही है कि कांग्रेस सुभाष चंद्र बोस की वापसी से डरी हुई थी। सरकार ने सोचा होगा कि अगर वह जिंदा होंगे तो कोलकाता में अपने परिवार से संपर्क जरूर करते होंगे। उस उस दौर में ऐसे एकमात्र करिश्माई नेता थे जो कांग्रेस के खिलाफ विपक्ष को एकजुट करके 1957 के चुनाव में चुनौती पेश कर सकते थे। यह कहा जा सकता है कि अगर बोस जिंदा होते तो वह गठबंधन जिसने 1977 में कांग्रेस को हराया। वह यह काम 1962 में ही कर देते, यानी 15 साल पहले। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।