कमलनाथ का फूटा दर्द, बताया चुनाव हारने का कारण

कमलनाथ का फूटा दर्द, बताया चुनाव हारने का कारण

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बैठक को संबोधित करते हुए यह कहा कि दो टूक हवाबाजी की राजनीति अब कांग्रेस में नहीं चलेगी।कमलनाथ ने कहा कि हवाबाज नेताओं के कारण कई पार्टी सीटें हार जाती हैं। उन्होंने कहा कि जब तक मंडल से लेकर सेक्टर को मजबूत नहीं किया जाएगा तब तक चुनाव नहीं जीत सकते।

भोपाल। मध्य प्रदेश में होने वाले उपचुनावों को लेकर कांग्रेस ने शंखनाद फूक दिया है। प्रदेश के खंडवा लोकसभा सहित 3 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के बंगले पर कांग्रेस की बड़ी बैठक हुई। बताया जा रहा है कि बैठक में टिकट दावेदारों सहित तमाम नेता और पदाधिकारी पहुंचे।

इसे भी पढ़ें:मध्य प्रदेश में कांग्रेस की चुनावी तैयारी शुरू, कमलनाथ ने बुलाई महत्वपूर्ण बैठक 

आपको बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बैठक को संबोधित करते हुए यह कहा कि दो टूक  हवाबाजी की राजनीति अब कांग्रेस में नहीं चलेगी।उन्होंने कहा कि पहले गांव में एक व्यक्ति जाता था, बोलते थे कांग्रेस को वोट दे दो, मिल जाता था पर अब ऐसा नहीं है। क्योंकि जो सबसे ज्यादा नारेबाजी करता है और बड़ी हार लेकर आता है उनका कोई जनाधार नहीं होता।

वहीं कमलनाथ ने कहा कि हवाबाज नेताओं के कारण कई पार्टी सीटें हार जाती हैं। उन्होंने कहा कि जब तक मंडल से लेकर सेक्टर को मजबूत नहीं किया जाएगा तब तक चुनाव नहीं जीत सकते। उन्होंने गलती निकलते हुए कहा कि जो ज्यादा गाड़ी लेकर आता है वो और बड़े अंतर से चुनाव हारता है। हम हमेशा आखिरी 3 दिन में चुनाव हारते हैं जिसपर अब हमें मंथन करना है।

इसे भी पढ़ें:MP में होने वाले उपचुनावों से पहले बीजेपी ने फूंका चुनावी बिगुल, मंत्रियों को दी क्षेत्रों की ज़िम्मेदारियां 

दरअसल कमलनाथ और मुकुल वासनिक ने बैठक को संबोधित किया। कांग्रेस ने साफ कर दिया है कि सर्वे के आधार पर ही टिकिट मिलेगी। कांग्रेस का विशेष फोकस बूथ और मंडलम सेक्टर को मजबूत करने पर होगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...