केजरीवाल 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले उद्योगपतियों को मूर्ख बना रहे हैं : चन्नी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 15, 2021   08:36
केजरीवाल 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले उद्योगपतियों को मूर्ख बना रहे हैं : चन्नी
प्रतिरूप फोटो

चन्नी ने वृहस्पतिवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल को एक अवसरवादी करार देते हुए कहा कि इस तरह का राजनीति से प्रेरित कदम आप संयोजक को पंजाब चुनाव में फायदा नहीं पहुंचाएगा।

चंडीगढ़| पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने बृहस्पतिवार को आम आदमी पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल की आलोचना करते हुए कहा कि वह राज्य में 2022 के विधानसभा चुनावों से पहले लंबे-चौड़े वादे कर उद्योगपतियों को मूर्ख बना रहे हैं।

चन्नी ने दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल को एक अवसरवादी करार देते हुए कहा कि इस तरह का राजनीति से प्रेरित कदम आप संयोजक को पंजाब चुनाव में फायदा नहीं पहुंचाएगा।

इसे भी पढ़ें: वेणुगोपाल और रावत के साथ सिद्धू की बैठक, प्रदेश नेतृत्व में बदलाव के आसार कम

उन्होंने कहा कि बाहरी होने के नाते केजरीवाल का राज्य के विकास और कल्याण से दूर-दूर तक कोई लेना-देना नहीं है और उनकी नजर एक या दूसरे तबके के सिर्फ वोट बैंक पर है। चन्नी ने यहां जारी एक बयान में 2022 के पंजाब चुनाव से पहले केजरीवाल द्वारा उद्योगपतियों को किये जा रहे झूठे वादेको लेकर उनपर प्रहार किया। संसदीय कार्य मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा ने भी केजरीवाल पर निशाना साधा और कहा कि राज्य ने लालफीताशाही कम करने के लिए एक कानून लागू किया जा चुका है।

मंत्री ने कहा, ‘‘मैं आपको (केजरीवाल को) पंजाब लालफीताशाही रोधी अधिनियम,2021 की एक प्रतिभेज रहा हूं।’’ चन्नी ने कहा कि राज्य में कोई ‘ हफ्ता सिस्टम/गुंडा टैक्स’ नहीं है, जैसा कि केजरीवाल ने दावा किया है।

इसे भी पढ़ें: बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र का विस्तार संघवाद पर हमला : पंजाब सरकार





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...