केजरीवाल ने इलेक्ट्रिक ऑटो रिक्शा को दिखाई हरी झंडी, घर पर हमले को लेकर कहा- सत्ताधारी पार्टी की गुंडागर्दी से गलत संदेश जाएगा

केजरीवाल ने इलेक्ट्रिक ऑटो रिक्शा को दिखाई हरी झंडी,  घर पर हमले को लेकर कहा- सत्ताधारी पार्टी की गुंडागर्दी से गलत संदेश जाएगा

अपने सरकारी आवास के बाहर तोड़फोड़ होने पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर देश की सबसे बड़ी पार्टी और सत्तादारी पार्टी राजधानी में ऐसी गुंडागर्दी करेगी तो युवाओं में क्या संदेश जाएगा?

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इलेक्ट्रिक ऑटो रिक्शा को हरी झंडी दिखाकर आईपी ​​डिपो से रवाना किया। दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि प्रदूषण को देखते हुए हम सभी वाहनों को इलेक्ट्रिक करने की तरफ ले जा रहे हैं। अब दिल्ली में इलेक्ट्रिक ऑटो चलेगी। हमने करीब 4000 इलेक्ट्रिक ऑटो रवाना किया है, 3,500 लोगों को एलओआई जारी हो चुके हैं ये 3,500 लोग दिल्ली की सड़कों पर इलेक्ट्रिक ऑटो चलाएंगे।

इसे भी पढ़ें: सीएम अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर तोड़फोड़ करने के आरोप में 8 गिरफ्तार, AAP ने की SIT जांच की मांग

सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार द्वारा बनाई गई इलेक्ट्रिक व्हीकल (ईवी) नीति की देशभर में तारीफ हो रही है। दिल्ली को देश की ईवी राजधानी माना जाता है। लोग तेजी से ईवी खरीद रहे हैं। इस साल उनके द्वारा खरीदे गए कुल वाहनों में से 10% इलेक्ट्रिक वाहन थे। इन ई-ऑटो को 3,500 लोग चलाएंगे। इससे 3,500 लोगों को रोजगार मिलेगा, जिनमें से 500 महिलाएं हैं। यह बहुत गर्व की बात है। 

इसे भी पढ़ें: कश्मीरी पंडितों की पीड़ा पर दिल्ली विधानसभा में लगे अट्टास ने चौंकाया

अपने सरकारी आवास के बाहर तोड़फोड़ होने पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर देश की सबसे बड़ी पार्टी और सत्तादारी पार्टी राजधानी में ऐसी गुंडागर्दी करेगी तो युवाओं में क्या संदेश जाएगा? उन्होंने कहा, केजरीवाल महत्वपूर्ण नहीं है, देश के लिए जान भी हाजिर है, हमें मिलकर देश को आगे बढ़ाना है, हमने झगड़े में 75 साल खराब कर दिए।

वायलेट रंग के ई-ऑटो रिक्शा में महिला चालक होंगी और पुरुषों द्वारा चलाए जा रहे लोगों के मामले में नीला रंग होगा। इससे पहले दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के लिए 300 हाईटेक इलेक्ट्रिक बसों को बीते बरस ही मंजूरी दे दी थी। जिसकी डिलवरी बीते साल नवंबर के महीने से होनी थी। लेकिन कोरोना महामारी की वजह से डिलिवरी में विलंब हुआ। जिनमें से दो पहले ही आ चुकी हैं, जबकि बाकी आने वाले महीनों में शुरू होने की संभावना है। नई इलेक्ट्रिक बसों के अलावा, दिल्ली के सार्वजनिक परिवहन बेड़े में दो बैचों में 800 सीएनजी बसें भी शामिल होंगी। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।