झूठे वादे करने की प्रतिस्पर्धा में केजरीवाल जीतेंगे पहला पुरस्कार: अमित शाह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 24, 2020   08:29
झूठे वादे करने की प्रतिस्पर्धा में केजरीवाल जीतेंगे पहला पुरस्कार: अमित शाह

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि देश में यदि झूठे वादे करने की प्रतिस्पर्धा हो तो केजरीवाल को निश्चित तौर पर पहला पुरस्कार मिलेगा। मैं आपको यह याद दिलाने आया हूं कि आप वह वादे भूल गए हैं जो आपने किये थे, लेकिन ना तो दिल्ली के लोग और ना ही भाजपा के कार्यकर्ता ही उन्हें भूले हैं।

नयी दिल्ली। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बृहस्पतिवार को कहा कि देश में यदि झूठे वादे करने की प्रतिस्पर्धा हो तो दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पहला पुरस्कार जीतेंगे। शाह ने यह भी आरोप लगाया कि आप नेता उन वादों को भूल गए हैं जो उन्होंने दिल्ली के लोगों से किये थे। शाह ने कहा, ‘‘देश में यदि झूठे वादे करने की प्रतिस्पर्धा हो तो केजरीवाल को निश्चित तौर पर पहला पुरस्कार मिलेगा। मैं आपको यह याद दिलाने आया हूं कि आप वह वादे भूल गए हैं जो आपने किये थे, लेकिन ना तो दिल्ली के लोग और ना ही भाजपा के कार्यकर्ता ही उन्हें भूले हैं।’’

इसे भी पढ़ें: दिल्ली की जनता तय करे, कर्मठ सरकार चाहिए या धरना सरकार चाहिए: अमित शाह

केंद्रीय मंत्री शाह पश्चिमी दिल्ली के मटियाला विधानसभा क्षेत्र में एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे। दिल्ली में विधानसभा चुनाव आठ फरवरी को होना है। उन्होंने कहा, ‘‘आप अन्ना हजारे की मदद से मुख्यमंत्री बने लेकिन लोकपाल के लिए कानून नहीं ला पाये और जब मोदी जी लाये तो आपने यहां लागू नहीं किया।’’

इसे भी पढ़ें: विपक्ष की तुलना पाकिस्तान से करना भारत की अस्मिता के खिलाफ: कांग्रेस

शाह ने कहा कि साढ़े चार वर्षों तक मुख्यमंत्री यह कहते रहे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें काम नहीं करने दिया इसलिए दिल्ली में विकास नहीं हो पाया। उन्होंने कहा, ‘‘अब आप (केजरीवाल) कह रहे हैं आपने दिल्ली का पांच वर्षों में विकास किया, इसलिए ‘लगे रहो केजरीवाल’।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।