दिल्ली की जनता तय करे, कर्मठ सरकार चाहिए या धरना सरकार चाहिए: अमित शाह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 23, 2020   20:45
दिल्ली की जनता तय करे, कर्मठ सरकार चाहिए या धरना सरकार चाहिए: अमित शाह

आप और कांग्रेस पर निशाना साधते हुए अमित शाह ने कहा कि दो साल पहले जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में भारत विरोधी नारे लगे। मोदी जी ने इनको जेल में डाला तो तुरंत केजरीवाल और राहुल एंड कंपनी वहां पहुंच गई और कहने लगें कि ये उनका वाणी स्वतंत्रता का अधिकार है।

नयी दिल्ली। गृह मंत्री अमित शाह ने बृहस्पतिवार को कहा कि पिछले पांच साल में अरविंद केजरीवाल ने एक भी चुनाव नहीं जीता है और दिल्ली की जनता को यह तय करना है कि अगले पांच साल के लिए नरेन्द्र मोदी जी की तरह काम करने वाली सरकार चाहिए या धरना प्रदर्शन करने वाली सरकार चाहिए। दिल्ली के मटियाला क्षेत्र में एक रैली को संबोधित करते हुए शाह ने कहा, ‘‘पिछले पांच साल में केजरीवाल ने एक भी चुनाव नहीं जीता। पहले वाराणसी में हारे, हरियाणा में हारे, पंजाब में हारे, एमसीडी चुनाव में हारे, फिर लोकसभा चुनाव में भी सारी सीटें हार गए। एक चुनाव जिताने के बाद सारे चुनाव दिल्ली की जनता ने उन्हें हराए हैं।’’उन्होंने कहा कि कुछ दिन बाद दिल्ली की जनता वोट डालकर दिल्ली की नई सरकार तय करने वाली है। शाह ने कहा कि आपका एक वोट ये तय करेगा कि पांच साल के लिए मोदी जी की तरह काम करने वाली सरकार चाहिए या धरना प्रदर्शन करने वाली सरकार चाहिए? ये आपको तय करना होगा।

आप और कांग्रेस पर निशाना साधते हुए अमित शाह ने कहा कि दो साल पहले जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में भारत विरोधी नारे लगे। मोदी जी ने इनको जेल में डाला तो तुरंत केजरीवाल और राहुल एंड कंपनी वहां पहुंच गई और कहने लगें कि ये उनका वाणी स्वतंत्रता का अधिकार है। उन्होंने आरोप लगाया कि पांच साल पहले दिल्ली की जनता ने बड़ा भरोसा करके अरविंद केजरीवाल को वोट दिया था लेकिन उन्होंने वादे पूरे नहीं किये। गृह मंत्री ने कहा कि अरविंद केजरीवाल सत्ता में आने के साढ़े चार साल तक ये कहते थे कि मोदी जी ने मुझे कुछ काम ही नहीं करने दिया, इसलिए दिल्ली का विकास नहीं हुआ। अब कहते हैं, पांच साल में दिल्ली का विकास मैंने किया। उन्होंने आरोप लगाया कि नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री आवास योजना लाए, ये भी केजरीवाल सरकार ने दिल्ली में नहीं लागू की। करीब 112 ऐसी योजनाओं के बीच में केजरीवाल रोड़ा बन गए हैं। उन्होंने कहा कि एक बार ये रोड़ा हटा दो तो ये सभी योजनाएं दिल्ली वालों के घर तक पहुंच जाएगी। 

शाह ने कहा कि भारत सरकार की आयुष्मान भारत योजना के तहत देश के गरीबों को हर साल 5 लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज मिल रहा है। लेकिन केजरीवाल सरकार के कारण ये योजना दिल्ली के लोगों को नहीं मिली। उन्होंने कहा कि केजरीवाल को डर है कि अगर इस योजना से गरीब को फायदा होगा, तो वो मोदीजी को वोट दे देगा उन्होंने कहा कि केजरीवाल ने कहा था कि दिल्ली की अनधिकृत कॉलोनियों को हम अधिकृत कर देंगे। लेकिन हमेशा इस काम में अड़ंगा लगाया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिल्ली के करीब 1,731 अनधिकृत कॉलोनियों के लोगों को पांच हजार रुपये में अपने घर का मालिकाना हक देने का काम किया है। शाह ने कहा, ‘‘मैं केजरीवाल को याद कराने आया हूं कि भइया केजरीवाल! आपने जो वादे किए थे वो आप तो भूल गए लेकिन वो वादे न दिल्ली की जनता भूली है और न ही भाजपा के कार्यकर्ता भूले हैं।’’ उन्होंने सवाल किया कि जरा बताएं कि कितने स्कूल बनाए, कितने सीसीटीवी कैमरा लगाए, कितने डीटीसी की बसें लाए। शाह ने कहा कि आज पूरे भारत में सबसे खराब पानी दिल्ली की जनता को मिल रहा है। यमुना जी को स्वच्छ करना आप के बूते की बात नहीं है। हम यमुना स्वच्छ करेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।