'दिल्ली में पुरानी नीति से बेची जाएगी शराब', सिसोदिया बोले- भाजपा ने CBI-ED के नाम से कारोबारियों को डराया

manish sisodia
ANI
अंकित सिंह । Jul 30, 2022 11:23AM
मनीष सिसोदिया ने कहा हमने नई आबकारी नीति वापस ले ली है और शराब की सरकारी दुकानें खोलने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि हम भ्रष्टाचार को रोकने के लिए नई शराब नीति लाए। हमने शराब दुकानों की पारदर्शी तरीके से नीलामी की। पहले दिल्ली में 850 दुकानें थी।

दिल्ली सरकार की नई शराब नीति को लेकर बवाल मचा हुआ है। नई शराब नीति में अनियमितता को लेकर उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है। इसके बाद से केजरीवाल सरकार की ओर से भाजपा पर जबरदस्त तरीके से निशाना साधा जा रहा है। इन सब के बीच दिल्ली सरकार ने फैसला लिया है कि अभी राष्ट्रीय राजधानी में पुरानी शराब नीति ही लागू रहेगी। आज दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया मीडिया के सामने आए। उन्होंने भाजपा पर जबरदस्त तरीके से कई आरोप भी लगाए। मनीष सिसोदिया ने कहा हमने नई आबकारी नीति वापस ले ली है और शराब की सरकारी दुकानें खोलने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि हम भ्रष्टाचार को रोकने के लिए नई शराब नीति लाए। हमने शराब दुकानों की पारदर्शी तरीके से नीलामी की। पहले दिल्ली में 850 दुकानें थी। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में अभी लागू नहीं होगी नई आबकारी नीति, बवाल के बाद बैकफुट पर केजरीवाल सरकार

सिसोदिया ने आगे कहा कि नई पॉलिसी में हमने तय किया कि एक भी ज्यादा दुकान नहीं खोलेंगे। पहले इन दुकानों से सरकार को 6000 करोड़ की आय होती थी। पारदर्शी तरीके से नीलामी के बाद अब 9500 करोड़ की आय सरकार को हुई। उन्होंने यह भी कहा कि दिल्ली में 2021-22 की एक्साइज पॉलिसी लागू होने से पहले ज्यादा सरकारी दुकानें थी। सरकारी दुकानों के जरिए शराब बिकती थी और बहुत घोटाला होता था। दिल्ली में कुछ निजी दुकानें थी लेकिन इसका लाइसेंस भी इन लोगों ने अपनों को ही दिया था। उनसे चार्ज भी कम लेते थे। उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया कि भाजपा ने शराब की दुकानों के लाइसेंसधारियों एवं आबकारी विभाग के अधिकारियों को धमकाने के लिए सीबीआई एवं ईडी का इस्तेमाल किया ताकि नई आबकारी नीति विफल हो जाए।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली सरकार इंग्लिश स्पीकिंग कोर्स कराने की बजाय अंग्रेजी की अनिवार्यता को खत्म करे

उपमुख्यमंत्री ने साफ कहा कि हमने नई शराब नीति को रोकने का फैसला किया है और सरकारी शराब की दुकानें खोलने का आदेश दिया है। उन्होंने कहा कि मुख्य सचिव को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है कि इस बदलाव ​​के दौरान कोई अराजकता न हो। उन्होंने गुजरात में शराब के लोगों की हुई मौत का भी मद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि गुजरात में नकली शराब से मौत का ये पहला मामला नहीं है। ये लोग कहते हैं कि हमने गुजरात में शराब बंद कर रखी है, लेकिन हर 2-3 साल में ऐसे मामले आते हैं। जब पड़ताल होती है तो पता चलता है कि इन्हीं के लोग वहां शराब बेचने और बनाने में शामिल थे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़