पूर्वी दिल्ली में गौतम गंभीर की जन रसोई में एक रुपये में परोसा जाएगा दोपहर को भोजन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 23, 2020   16:46
पूर्वी दिल्ली में गौतम गंभीर की  जन रसोई  में एक रुपये में परोसा जाएगा दोपहर को भोजन

गंभीर ने कहा, मेरा हमेशा से मानना रहा है कि जाति, पंथ, धर्म और वित्तीय हालात से परे सभी को स्वस्थ और स्वच्छ भोजन करने का अधिकार है। यह देखकर अफसोस होता है कि बेघर और बेसहारा लोगों को दिन में दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं हो पाती। गंभीर ने पूर्वी दिल्ली के दस विधानसभा क्षेत्रों में कम से कम एक जन रसोई भोजनालय खोलने की योजना बनाई है।

नयी दिल्ली। भाजपा सांसद गौतम गंभीर जन रसोई भोजनालय शुरुआत करेंगे, जिसमें उनके संसदीय निर्वाचन क्षेत्र पूर्वी दिल्ली में जररूतमंद लोगों के एक रुपये में दोपहर का भोजन दिया जाएगा। गंभीर ने कार्यालय ने कहा कि वह बृहस्पतिवार को गांधी नगर में पहले भोजनालय की शुरुआत करेंगे, जिसके बाद गणतंत्र दिवस पर अशोक नगर में भी ऐसा ही भोजनालय खोला जाएगा। गंभीर ने कहा, मेरा हमेशा से मानना रहा है कि जाति, पंथ, धर्म और वित्तीय हालात से परे सभी को स्वस्थ और स्वच्छ भोजन करने का अधिकार है। यह देखकर अफसोस होता है कि बेघर और बेसहारा लोगों को दिन में दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं हो पाती। गंभीर ने पूर्वी दिल्ली के दस विधानसभा क्षेत्रों में कम से कम एक जन रसोई भोजनालय खोलने की योजना बनाई है। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में रमेश बिधूड़ी के बयान को लेकर हंगामा, AAP ने की पार्टी से निकलने की मांग

सांसद के कार्यालय की ओर से बयान में कहा गया है, देश के सबसे बड़े थोक कपड़ा बाजारों में शुमार गांधी नगर में खोली जाने वाली जन रसोई पूरी तरह आधुनिक होगी, जिसमें जररूतमंदों के एक रुपये में भोजन उपलब्ध कराया जाएगा। बयान के अनुसार इसमें एक समय में 100 लोगों के बैठने की व्यवस्था होगी लेकिन कोविड-19 महामारी के चलते केवल 50 लोगों को ही बैठने की अनुमित दी जाएगी। दोपहर के भोजन में चावल, दालें और सब्जी दी जाएगी। बयान में कहा गया है किइस परियोजना का वित्तपोषण गौतम गंभीर फाउंडेशन तथा सांसद के निजी संसाधनों से किया जाएगा और सरकार की मदद नहीं ली जाएगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।