राष्ट्रपति भवन में मुर्मू के साथ दोपहर भोज मयूरभंज के निवासियों के लिए बना यादगार

Murmu
ANI
ओडिशा के आदिवासी बहुल मयूरभंज जिले के पांच दर्जन लोगों के लिए सोमवार को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के साथ दोपहर भोज करने का अवसर मिलना एक सपने के सच होने जैसा था।

भुवनेश्वर। ओडिशा के आदिवासी बहुल मयूरभंज जिले के पांच दर्जन लोगों के लिए सोमवार को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के साथ दोपहर भोज करने का अवसर मिलना एक सपने के सच होने जैसा था। देश की पहले आदिवासी राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने गए मुर्मू के गृह जिले के कम से कम 60 लोग उस समय हैरान रह गए जब अधिकारियों ने उनसे मुर्मू द्वारा आयोजित दोपहर भोज में शामिल होने का आग्रह किया।

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक में बीजेपी नेता की बेरहमी से हत्या, धारदार हथियार से बदमाशों ने किए कई वार, इलाके में जारी किया गया सुरक्षा अलर्ट

मयूरभंज जिले की पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष सुजाता मुर्मू ने कहा, हम संसद के सेंट्रल हॉल में राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होकर बहुत खुश थे, लेकिन हमने कभी नहीं सोचा था कि हमें राष्ट्रपति भवन में दोपहर के भोज के लिए आमंत्रित किया जाएगा। वह और कुछ अन्य महिला अतिथि पारंपरिक संथाली साड़ी पहनकर शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुई थीं।

इसे भी पढ़ें: दबंगों ने दलित लड़की को स्कूल जाने से रोका, रास्ता रोक कर छींन ली किताबें, विरोध करने पर परिवार को लाठी से पीटा

ऐसा ही गयमणि बेशरा और डांगी मुर्मू का अनुभव था। दोनों लंबे समय से राष्ट्रपति के करीबी थे और उन्हें शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित किया गया था। उन्हें भी यह उम्मीद नहीं थी कि राष्ट्रपति उन्हें दोपहर भोज पर आमंत्रित करेंगी। मुर्मू के गृह जिले के निवासियों को राष्ट्रपति भवन के विभिन्न हिस्सों का भ्रमण कराया गया और राष्ट्रपति कार्यालय दिखाया गया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़