मध्य प्रदेश: कथित हनी ट्रैप ब्लैकमेलिंग कांड में डायरी के पन्ने सोशल मीडिया पर वायरल

मध्य प्रदेश: कथित हनी ट्रैप ब्लैकमेलिंग कांड में डायरी के पन्ने सोशल मीडिया पर वायरल

प्रदेश कांग्रेस में पूर्व मुख्य प्रवक्ता रहे मानक अग्रवाल ने RSS को निशाने पर लेते हुए कहा, ''इसका एक सबसे बड़ा कारण यह है कि आरएसएस के लोग शादी नहीं करते हैं। आरएसएस के लोगों को शादी करनी चाहिए। मोहन भागवत को भी शादी करनी चाहिए।

मध्य प्रदेश के बहु-चर्चित कथित हनी ट्रैप मामले की जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, एक के बाद एक चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं। सूत्रों की माने तो अब इस मामले में राज्य के एक दर्जन शीर्ष नौकरशाहों और 8 पूर्व मंत्रियों की भी जांच की जा रही है। वही सोशल मीडिया पर भी आरोपी महिलाओं की डायरी के कुछ पन्ने सामने आ रहे है। जिसमें कुछ बीजेपी नेताओं के नाम के साथ उनसे ली गई रकम का ब्यौरा दिया गया है। जिसमें मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के कई बड़े नाम शामिल है।

इसे भी पढ़ें: मॉडल मल्टीप्लेक्स स्थापित करने की करें पहल, हर प्रकार से इसमें सहयोग करेगी सरकार: कमलनाथ

तो वही अब कांग्रेसी नेता मानक अग्रवाल ने बीजेपी और आरएसएस पर निशाना साधते हुए कहा कि, यह सब शिवराज जी के समय से शुरू हुआ। इसमें अधिक संख्या में बीजेपी के नेता शामिल हैं। प्रदेश कांग्रेस में पूर्व मुख्य प्रवक्ता रहे मानक अग्रवाल ने RSS को निशाने पर लेते हुए कहा, 'इसका एक सबसे बड़ा कारण यह है कि आरएसएस के लोग शादी नहीं करते हैं। आरएसएस के लोगों को शादी करनी चाहिए। मोहन भागवत को भी शादी करनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: हनी ट्रैप मामले की जांच में किसी नेता या नौकरशाह की भूमिका पायी गई तो होगी कार्रवाई: गृह मंत्री

मानक अग्रवाल के इस बयान के बाद राजनीतिक हलकों में आरएसएस नेताओ को लेकर दिए गए बयान की ही चर्चा है। तो वही इस ब्लैकमेलिंग कांड की मुख्य आरोपी मोनिका विजय जैन ने मीडिया के सामने यह कहकर चौका दिया कि उनके खिलाफ बड़े-बड़े लोग साजिश कर रहे है। वह निर्दोष है। इस दौरान एसआईटी ने भी अपनी जांच शुरू करते हुए एक मेल आईडी जारी कर लोगों से इस केस से जुड़े तथ्यों को भेजने का आग्रह किया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।