Breaking: महाराष्ट्र कैबिनेट की बैठक में हुआ बड़ा फैसला, कोरोना संबंधी सभी प्रतिबंध हटाए, मास्क को वैकल्पिक बनाने वाला पहला राज्य बना

Breaking: महाराष्ट्र कैबिनेट की बैठक में हुआ बड़ा फैसला, कोरोना संबंधी सभी प्रतिबंध हटाए, मास्क को वैकल्पिक बनाने वाला पहला राज्य बना

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि सीएम और कैबिनेट ने फैसला किया कि 2 अप्रैल (गुड़ी पड़वा) से महामारी अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम वापस ले लिया जाएगा।

महाराष्ट्र कैबिनेट ने राज्य भर में सभी कोविड -19 प्रतिबंधों को हटाने का फैसला किया। महाराष्ट्र सरकार का ये फैसला 2 अप्रैल से लागू होगा। जिसके बाद राज्य में मास्क पहनना वैकल्पिक हो जाएगा। कोविड -19 मामलों में भारी गिरावट के बाद महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने महामारी एक्ट और आपदा प्रबंधन एक्ट को खत्म करने का फैसला लिया है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि सीएम और कैबिनेट ने फैसला किया कि 2 अप्रैल (गुड़ी पड़वा) से महामारी अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम वापस ले लिया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: नारायण राणे का बंगला गिराने का आदेश लिया गया वापस, महाराष्ट्र सरकार ने HC को दी जानकारी

महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई लोकल ट्रेनों में यात्रा करने वाले लोगों के लिए अनिवार्य रूप से मास्क पहनना और दोहरा टीकाकरण समाप्त करने का निर्णय लिया है। स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि सिर्फ इसलिए कि अनिवार्यता वापस ले ली गई हैं इसका मतलब यह नहीं है कि लोगों को सावधानियों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: उद्धव ने प्लान बनाया, पवार ने ऐतराज जताया, कांग्रेस को कुछ पता ही नहीं, क्या है विधायकों को फ्लैट देने की योजना?

 कोरोना के मामलों में गिरावट

गौरतलब है कि पिछले एक महीने से देश में कोरोना के मामले में लगातार कमी हो रही है. आज पूरे देश में कोरोना के सिर्फ 1225 मामले सामने आए हैं। हालांकि पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना के कारण देश में 28 लोगों की मौत भी हुई। अब पूरे देश में एक्टिव केस भी घटकर सिर्फ 14307 रह गए हैं। महाराष्ट्र में भी पिछले 24 घंटे में 119 कोरोना के नए मामले सामने आए हैं जबकि इससे दो मौतें राज्य में हुई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।